Sports

नई दिल्ली: सीनियर टीम में जगह बनाने की कोशिश में जुटे भारत के जूनियर हॉकी खिलाड़ी रविचंद्र सिंह मोइरांगथेम और दीनाचंद्र सिंह मोइरांगथेम का कहना है कि चिंगलेनसाना सिंह कांगुजम और हरमनप्रीत सिंह उनके लिए रोल मॉडल की तरह हैं। तीन साल पहले जूनियर टीम में जगह बनाने के बाद 31 मैच खेल चुके मिडफील्डर रविचंद्र ने कहा कि मणिपुर के उदीयमान हॉकी खिलाड़ियों के लिए चिंगलेनसाना प्रेरणास्रोत हैं। 

उन्होंने कहा, ‘चिंगलेनसाना के रास्ता दिखाने के बाद मणिपुर में हॉकी काफी लोकप्रिय हुई है। उसने भारत के लिये 200 से ज्यादा मैच खेले हैं और राज्य में युवा उसे देखकर हॉकी के प्रति आकर्षित हो रहे हैं।' उन्होंने कहा, ‘मैं उनका खेल करीब से देखता हूं और उम्मीद है कि एक दिन उनकी तरह बनूंगा। कोथाजीत सिंह भी काफी अनुभवी हैं। हमें ऐसे रोल मॉडल मिलने की खुशी है।' दीनाचंद्र ने कहा कि हरमनप्रीत देश के युवा डिफेंडरों के लिए प्रेरणा का स्रोत हैं। 

उन्होंने कहा, ‘उसका खेल लाजवाब है। उसने कई मैचों में भारत को जीत दिलाई है और देश के डिफेंडरों के लिये प्रेरणा का स्रोत है। दबाव के हालात में भी वह शांतचित्त रहता है। हम खुशकिस्मत हैं कि सीनियर टीम में उसके जैसा खिलाड़ी है।' उन्होंने कहा, ‘मैं अपने हुनर को निखारकर नयी तकनीकें सीखना चाहता हूं। मेरा सपना भारत के लिये खेलने का है और मैं कड़ी मेहनत कर रहा हूं।'

.
.
.
.
.