Sports

नई दिल्ली: हरभजन सिंह का मानना ​​है कि जसप्रीत बुमराह हमेशा विराट कोहली के ऋणी रहेंगे जिनकी बदौलत उन्हें हैट्रिक मिली जैसे वह 18 साल पहले अविश्वसनीय कैच के लिए सदगोपन रमेश के आभारी हैं। टेस्ट क्रिकेट में भारत के लिए पहली हैट्रिक बनाने वाले हरभजन ने बुमराह के प्रदर्शन की तारीफ की जो यह उपलब्धि हासिल करने वाले तीसरे (इरफान पठान दूसरे) गेंदबाज बने। वर्ष 2001 में हरभजन ने ताकतवर आस्ट्रेलिया (रिकी पोंटिंग, एडम गिलक्रिस्ट और शेन वार्न) के खलाफ हैट्रिक ली थी। 

PunjabKesari
हरभजन ने कहा, ‘इस हैट्रिक का श्रेय बुमराह के साथ विराट को भी जाता है। गेंदबाज को नहीं लगा था कि बल्लेबाज आउट है लेकिन कप्तान को अंदर से लग रहा था कि वह आउट है। अगर विराट डीआरएस नहीं लेते तो क्या होता? कप्तान का यह फैसला बेहतरीन था जिसकी वजह से वह शानदार प्रयास कर सका।' हरभजन को अब भी लगता है कि रमेश के शानदार प्रयास के बिना वह यह इतिहास नहीं बना सकते थे। उन्होंने कहा, ‘मुझे याद है जब मैंने दादा (सौरव गांगुली) के साथ चर्चा करने के बाद गेंदबाजी की।' 

PunjabKesari
अंतरराष्ट्रीय स्तर पर 711 विकेट चटकाने वाले हरभजन ने कहा, ‘इसलिए मेरा मानना है कि कुछ चीजें एक साथ होती हैं तो ऐसा ही कुछ होता है। तब यह रमेश का शानदार कैच था और अब यह विराट का फैसला रहा। 'हरभजन ने कहा कि राहुल द्रविड़ ने जिस तरह इस हैट्रिक का लुत्फ उठाया तो वह हैरान रह गए थे। उन्होंने कहा, ‘मैंने राहुल को इतना उत्साहित कभी नहीं देखा था, वह खुशी से उछल रहा था। शायद, उसे भी नहीं लगा था कि रमेश इस तरह का कैच लपक सकता था।'

.
.
.
.
.