Sports

मुंबई : भारतीय बैडमिंटन टीम के कोच और पूर्व आल इंग्लैंड चैंपियन पुलेला गोपीचंद ने देश में खेलों की शुरुआत के लिए शीर्ष एथलीटों के बीच जैव सुरक्षा वातावरण बनाने और कई मिनी लीग का आयोजन करने का प्रस्ताव दिया है। गोपीचंद ने बुधवार को यहां आईडीबीआई फेडरल लाइफ इंश्योरेंस, भारतीय एथलेटिक्स महासंघ (एएफआई) और फिट इंडिया द्वारा समर्थित ‘‘स्पोट्र्स, फिटनेस, लॉकडाउन- आगे का रास्ता क्या है'' वेबिनार में यह प्रस्ताव दिया। 

राष्ट्रीय बैडमिंटन कोच ने कहा, ‘सामाजिक दूरी के नियमों के कारण हमारे लिए कोविड-19 से पहले की तरह बड़े पैमाने पर राष्ट्रीय या राज्य स्तर पर टूर्नामेंट आयोजित करना संभव नहीं हो सकता है। लेकिन हम अपने स्तर पर शीर्ष खिलाड़यिों के बीच प्रत्येक खेल में कई लीगों का आयोजन कर सकते हैं।' एएफआई के अध्यक्ष आदिल सुमारिवाला ने बैडमिंटन कोच के प्रस्ताव का समर्थन करते हुए कहा कि उनका महासंघ अगले साल होने वाले टोक्यो ओलंपिक को देखते हुए अपने एथलीटों को बेहतर तरीके से रखने और उन्हें शानदार फॉर्म में बनाए खने के लिए उनके साथ मिलकर काम कर रहा है।

सुमारिवाला ने कहा, ‘हमारे एलीट एथलीट जून से शिविरों में हैं और अक्टूबर से वे कड़ी ट्रेनिंग शुरू कर देंगे। हमने अभी अपने विस्तृत कार्यक्रम कैलेंडर को देखा है और हम जनवरी से कड़े प्रतिस्पर्धा की उम्मीद कर रहे हैं।ओलंपिक की शुरुआत में देरी के कारण हम बेहतर प्रदर्शन को लेकर आश्वस्त हैं क्योंकि इससे हमारे युवा एथलीट अधिक परिपक्व होंगे और उनकी तैयारी बेहतर होगी।' 

.
.
.
.
.