Sports

स्पोर्ट्स डेस्क: कोरोना वायरस की वजह से देश में तकरीबन 56 दिनों से लाॅकडाउन का दौर जारी है। जिसकी वजह से सभी लोग अपने घरों में बंद है। कोरोना के बढ़ते प्रकोप के बीच विश्व क्रिकेट भी बुरी तरह प्रभावित हुआ है। वही खिलाड़ी अपने फैंस के मनोरजंन के लिए अकसर इंस्टाग्राम पर लाइव होकर बातचीत का सेशन रखते है। ऐसे में टीम इंडिया के पूर्व सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर और पूर्व मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद टीम के चयन को लेकर आपस में भिड़ गए। 

PunjabKesari
दरअसल, एक चैनल पर लाइव वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान गंभीर ने कहा, ‘समय आ गया है कि अब कप्तान भी चयनकर्ता बने। कप्तान और कोच चयनकर्ता होने चाहिए। प्लेइंग इलेवन में चयनकर्ताओं का कोई दखल नहीं होना चाहिए। प्लेइंग इलेवन की जिम्मेदारी कप्तान की होगी।’ इस पर एमएसके प्रसाद ने कहा, ‘भारतीय क्रिकेट के नियमों के अनुसार चयन प्रक्रिया में कप्तान से हमेशा सलाह ली गई है, उनके पास वोट का अधिकार नहीं है। कप्तान चयन प्रक्रिया में हमेशा कुछ न कुछ कहता है। इसे लेकर दो राय नहीं है। नियमों के अनुसार उनके पास वोट का अधिकार नहीं है। 

गंभीर ने वर्ल्ड कप में रायुडू को नहीं चुनने पर उठाया सवाल 
PunjabKesari
गंभीर ने वर्ल्ड कप में अंबाती रायुडू को नहीं चुनने पर भी बात की। उन्होंने कहा, 'आप ने दो साल तक रायडू को चौथे पर मौका दिया फिर वर्ल्ड कप से पहले टीम से बाहर कर दिया। अचानक से आपको थ्री डी खिलाड़ी चाहिए था। क्या आप देखना चाहेंगे कि सेलेक्शन बोर्ड के अध्यक्ष कहें कि हमें थ्री डी क्रिकेटर चाहिए।'

.
.
.
.
.