Sports

नई दिल्ली : वेस्टइंडीज दौरे पर तीनों फॉर्मेट में जीत हासिल कर लौटे रवि शास्त्री ने टीम के भविष्य पर बाते करते हुए इशारों ही इशारों में महेंद्र सिंह धोनी को बाय बाय बोल दिया है। शास्त्री का साफ कहना है कि आगामी टी-20 सीरीज के लिए हमारा फोक्स युवाओं पर हैं। ऐेेसे में अनुभवी क्रिकेटरों को हटाने का कड़वा घुट हमें भरना पड़ेगा। इससे हमारे पास ऐसी टीम आ जाएगी जोकि किसी भी परिस्थिति में अच्छा खेल दिखा सके। 

Sports

मुख्य कोच रवि शास्त्री ने कहा कि टीम इंडिया के इस शीर्ष पद पर उनके दूसरे कार्यकाल के दौरान ध्यान युवा खिलाडिय़ों पर होगा क्योंकि भारत अगले साल होने वाले विश्व टी20 और मौजूदा विश्व चैंपियनशिप के बाद के चरण की तैयारी करेगा। भारत के पूर्व क्रिकेटर शास्त्री के दिमाग में स्पष्ट है कि उन्हें आगामी दिनों में कैसा संयोजन चाहिए। कैरेबियाई दौरे से लौटने के बाद शास्त्री ने ‘गल्फ न्यूज’ से कहा- रास्ता यह देखते हुए तैयार किया जाना चाहिए कि आपके पास टी20 विश्व कप के लिए 12 महीने और विश्व टेस्ट चैंपियनिशप के लिए लगभग 18 से 20 महीने हैं। उन्होंने कहा कि बदलाव के इस दौर के दौरान युवाओं पर ध्यान देना महत्वपूर्ण है जिससे कि वे अनुभवी खिलाडिय़ों के साथ घुल मिल जाएं और हमें बेहद मजबूत टीम दें। 

focus-on-young-players-for-world-t20-and-test-championship-shastri

कोच ने प्रदर्शन में निरंतरता और बेंच स्ट्रैंथ को मजबूत करने पर जोर दिया। उन्होंने कहा- हमारा लक्ष्य है कि प्रदर्शन में निरंतरता बनी रहे। टीम बदलाव के दौर से गुजर रही है और युवाओं पर नजर रखनी होगी और साथ ही खेल के तीनों प्रारूपों में बल्लेबाजी और गेंदबाजी में बेंच स्ट्रैंथ तैयार करने पर भी। शास्त्री ने कहा, ‘इस दौरान साथ ही हमें इस लक्ष्य से ध्यान नहीं भटकाना होगा कि आप जीत के लिए खेलते हैं। कभी इस लक्ष्य को मत भूलो लेकिन साथ ही युवाओं में निवेश करो। शास्त्री ने साथ ही कहा कि अंक दांव पर लगे होने के कारण विश्व टेस्ट चैंपियनशिप गंभीर टूर्नामेंट है। 

focus-on-young-players-for-world-t20-and-test-championship-shastri

उन्होंने कहा- हम स्वदेश में खेलेंगे (दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ) और यह विश्व टेस्ट चैंपियनशिप है- इसलिए अब और अधिक कारण है कि आपको अच्छा प्रदर्शन करना होगा। हम अब जुड़ेंगे। शास्त्री ने कहा- हम दुनिया की नंबर एक टीम हैं और हम पिछले तीन साल से शीर्ष पर हैं इसलिए प्रतिष्ठा भी दांव पर लगी है। इसलिए हम प्रदर्शन में इस निरंतरता को जारी रखना चाहते हैं और सुनिश्चित करना चाहते हैं कि जब यह तय करने का समय आए कि कौन फाइनल में खेलेगा तो हम अंक तालिका में अच्छी स्थिति में हों।

शास्त्री खुश हैं कि उनकी टीम वेस्टइंडीज में अजेय अभियान जारी रखने में सफल रही और कैरेबियाई देशों में ऐसा करने वाली पहली टीम बनी। उन्होंने कहा-वेस्टइंडीज को वेस्टइंडीज में तीनों प्रारूपों में हराना विशेषकर सीमित ओवरों के प्रारूप और टेस्ट मैचों में, मुझे लगता है कि यह अभूतपूर्व है। एक टीम कैरेबियाई दौरे पर जाए और कोई मैच नहीं गंवाए, मुझे नहीं लगता कि अतीत में ऐसा हुआ है और निकट भविष्य में भी यह आसानी से नहीं होगा।

.
.
.
.
.