Sports

रिगा , लातविया ( निकलेश जैन ) विश्व शतरंज चैंपियन को चुनौती देने का एकमात्र तरीका फीडे कैंडीडेट चैंपियनशिप का जीतना है और कैंडीडेट तक पहुँचने का एक रास्ता फीडे ग्रांड प्रिक्स से होकर जाता है । भारत के पेंटाला हरिकृष्णा के लिए आने वाली तीन ग्रांड प्रिक्स बेहद अहम है क्यूंकी यंही से वह अपने सपनों का सफर तय कर सकते है । कल से रूस के पड़ोसी देश लातविया के रिगा शहर में इस वर्ष की दूसरी ग्रांड प्रिक्स में हरिकृष्णा अन्य 15 दिग्गज खिलाडिय़ों के साथ खेलते नजर आएंगे । पर बदले हुए फॉर्मेट में हरिकृष्णा को पहले ही राउंड में अमेरिकन दिग्गज वेसली सो से भिडऩा होगा और अगर उन्हे आगे जाना है तो दो गेम के नॉक आउट इस मुक़ाबले में उन्हे जीत दर्ज करते हुए वेसली को प्रतियोगिता से बाहर करना होगा ।

क्या हरिकृष्णा ऐसा कर सकेंगे हरिकृष्णा और  सो के बीच अंतिम क्लासिकल मुकाबला बातुमी शतरंज ओलंपियाड में खेला गया था जो की ड्रा रहा था हालाँकि पिछले वर्ष नवम्बर में टाटा स्टील रैपिड और ब्लिट्ज में हरिकृष्णा नें जीत दर्ज की थी . अच्छी बात यह भी है की हरिकृष्णा अपने पिछले टूर्नामेंट्स में जबरजस्त लय में नजर आये है . 
तो पहले राउंड में रूस के सेरगी कार्याकिन नीदरलैंड के अनीश गिरी से ,अमेरिका के वेसली सो भारत के पेंटाला हरिकृष्णा से ,रूस के पीटर स्विडलर पोलैंड के जान डूडा से ,अजरबैजान शाकिरयर मामेद्यारोव रूस के दनील दुबोव से ,रूस के निकिता वितुगोव रूस के ही अलेक्जेंडर ग्रिसचुक से ,अर्मेनिया के लेवान अरोनियन चीन के यु यांगी से ,अमेरिका के हिकारु नाकामुरा बुल्गारिया के वेसेलिन टोपालोव से , फ्ऱांस के मेक्सिम लाग्रेव चेक गणराज्य के डेविड नवारा से मुकाबला खेलेंगे 

.
.
.
.
.