Sports

नई दिल्ली: विश्व कप सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड से मिली हार की कड़वी यादें अब भी युजवेंद्र चहल के दिमाग में ताजा है और इस लेग स्पिनर ने कहा कि ओल्ड ट्रैफर्ड में खेले गए मैच में जब महेंद्र सिंह धोनी आउट हुए तो उनके लिए अपने आंसू रोकना मुश्किल हो गया था। 

PunjabKesari
चहल ने एक कार्यक्राम में कहा, ‘यह मेरा पहला विश्वकप था और माही भाई (धोनी) के आउट होने पर मुझे बल्लेबाजी के लिए जाना था। मैं अपने आंसू रोकने की कोशिश कर रहा था। यह काफी तनावपूर्ण था।' उन्होंने कहा, ‘हम नौ मैचों में बहुत अच्छा खेले लेकिन अचानक हम टूर्नामेंट से बाहर हो जाते हैं। बारिश पर हमारा वश नहीं है इसलिए (व्यवधान के लिए) कुछ कहना सही नहीं होगा। यह पहला अवसर था जबकि हम वास्तव में मैदान से जल्द से जल्द होटल लौटना चाहते थे।' 

PunjabKesari
भारत लीग चरण में नौ मैचों में सात जीत से शीर्ष पर रहा था। चहल ने कहा कि वह अगले पांच छह साल तक खेलना चाहते हैं और उनका एकमात्र लक्ष्य भारत की विश्व कप विजेता टीम का हिस्सा बनना है। उन्होंने कहा, ‘मैं पांच छह साल तक खेलना जारी रखना चाहता हूं। मैं कम से कम एक विश्व कप जीतना चाहता हूं। मेरा मानना है कि अभी हम जिस तरह से खेल रहे हैं और हमारी टीम जैसी स्थिति में है वह सकारात्मक संकेत हैं।' चहल ने कहा, ‘हम न्यूजीलैंड, आस्ट्रेलिया और वेस्टइंडीज में जीते और अगर हम अगले साल टी20 विश्व कप में जीत दर्ज करते हैं तो आलोचक अपने आप चुप हो जाएंगे।' 

.
.
.
.
.