Sports

जालन्धर : कॉनवैल्थ गेम्स के दौरान पैरा एथलीट सचिन चौधरी ने इतिहास रच दिया है। पावरलिफ्टिंग में हिस्सा ले रहे सचिन ने अपनी कैटेगरी में 181 किलो वजन उठाकर ब्रॉन्ज पर कब्जा जमाया है। सचिन के ग्रुप में नाइजीरिया के अब्दुलअजीज इब्राहिम (191.9 किग्रा.) को गोल्ड, यी योंग (188.7 किग्रा.) को सिल्वर मिला है। सचिन ऐसे पहले भारतीय बन गए हैं जिन्होंने कॉमनवैल्थ में पैरा पावरलिफ्टिंग कैटेगरी में कोई मैडल जीता हो। 
सचिन लंबे सम से पावरलिफ्टिंग से जुड़े हुए हैं। इससे पहले 2012 में हुई समर ओलंपिक में भी उन्होंने हिस्सा लिया था। 82 किलोग्राम की कैटेगिरी में तब सचिन को नौवां स्थान मिला था। सचिन ने पिछले साल ही उम्मीद जगाई थीं जब वह दुबई में हुए पावरलिफ्टिंग वल्र्ड कप में सिल्वर मैडल जीते थे। सचिन ने यहां पर अपने करियर का सर्वश्रेष्ठ 200 किलो वजन उठाया था।
27 साल के सचिन के पिता रिटायर्ड अफसर, मां गृहिणी तो भाई किसान है। बता दें कि सचिन ने 2009 में हुई आईपीसी एशियन चैंपियनशिप में भी सिल्वर मैडल जीता था। इसके अलावा 2009 में हुई वल्र्ड गेम्स में वह सिल्वर जीते थे।

.
.
.
.
.