Sports

खेल डैस्क : कॉमनवैल्थ गेम्स 2022 की कुश्ती 57 किलोग्राम वर्ग में भारतीय पहलवान रवि कुमार दहिया ने नाइजीरिया के पहलवान एबिकेवेनिमो वेलसन को हराकर गोल्ड मेडल जीत लिया। टोक्यो ओलिम्पिक के सिल्वर मेडल विजेता रवि के सामने गोल्ड की राह में कोई भी पहलवान टिक नहीं पाया। रवि 2015 में विश्व जूनियर चैम्प्यिनशिप में सिल्वर जीतकर चर्चा में आए थे। 

CWG 2022, Ravi Kumar Dahiya, Wrestling, Commonwealth Games, राष्ट्रमंडल खेल 2022, रवि कुमार दहिया, कुश्ती, राष्ट्रमंडल खेल

ऐसे आगे बढ़े रवि कुमार दहिया
राऊंड 16 (बाई) :
57 किलोग्राम वर्ग में रवि को राऊंड 16 में बाई मिल गई। 
क्वार्टरफाइनल (जीत) : रवि का मुकाबला न्यूजीलैंड के सूरज सिंह के साथ हुआ जिसमें वह 10-0 से जीते। कीवी पहलवान रवि का मुकाबलाा ही नहीं कर पाया। 
सेमीफाइनल (जीत) : महत्वपूर्ण मैच में रवि का मुकाबलाा पाकिस्तान के असद अली के खिलाफ हुआ। तकनीकी श्रेष्ठता के साथ रवि ने यह मुकाबला 14-4 से अपने नाम किया। 
फाइनल (जीत) : नाइजीरिया के एबिकेवेनिमो वेलसन के खिलाफ खेले गए मुकाबले में रवि शुरूआत से ही प्रतिद्वंद्वी पर भारी रहे। उन्होंने शुरूआत में ही वेलसन को पांव से पकड़कर घुमा दिया। इसके बाद रवि ने पकड़ नहीं छोड़ी और भारत को गोल्ड दिला दिया। 

ओलिम्पिक खेल
रजत पदक - टोक्यो 2020, 57 किग्रा

राष्ट्रमंडल खेल 
स्वर्ण पदक - बर्मिंघम 2022, 57 किग्रा

विश्व चैम्पियनशिप
कांस्य पदक - नूर-सुल्तान 2019, 57 किग्रा

एशियाई चैम्पियनशिप
स्वर्ण पदक - नई दिल्ली 2020, 57 किग्रा
स्वर्ण पदक - अल्माटी 2021, 57 किग्रा
स्वर्ण पदक - उलानबटार 2022, 57 किग्रा

विश्व 23 चैम्पियनशिप
रजत पदक - बुखारेस्ट 2018, 57 किग्रा

विश्व जूनियर चैम्पियनशिप
रजत पदक - साल्वाडोर 2015, 55 किग्रा

 


पिता सफर कर देकर जाते थे ताजे फल
रवि का जन्म 12 दिसंबर 1997 को हरियाणा के सोनीपत जिले के नाहरी गांव में हुआ। दस साल की उम्र से दहिया उत्तरी दिल्ली के छत्रसाल स्टेडियम में सतपाल सिंह से ट्रेनिंग ले रहे हैं। दहिया के पिता राकेश दहिया एक छोटे किसान है जोकि एक दशक तक अपने गांव से छत्रसाल स्टेडियम तक (करीब 39 किलोमीटर) ताजा दूध और फल बेटे को देने जाया करते थे। 

.
.
.
.
.