Sports

नई दिल्ली: टीम इंडिया के विकेटकीपर बल्लेबाज ऋद्धिमान साहा आज अपना 35वां जन्मदिन माना रहे हैं, भारतीय टेस्ट टीम के महत्वपूर्ण सदस्य हैं। इनका जन्म 24 अक्टूबर 1984 को बंगाल में हुआ था। जब से महेंद्र सिंह धोनी ने टेस्ट क्रिकेट से संन्यास लिया है, तब से इन्होंने ही टेस्ट मैच की विकेटकींपिग की जिम्मेदारी संभाली थी। जी हां तो चलिए आज हम आपको इंडिया के विकेटकीपर साहा के जीवन और करियर से जुड़ी कुछ खास बातों से आपको रूबरू करवाने जा रहे है। 

इस तरह मिली टीम इंडिया में एंट्री
PunjabKesari
एक इंटरव्यू में साहा ने किस तरह अचानक से टीम इंडिया में जगह मिली। उन्होंने बताया कि अंतरराष्ट्रीय ही नहीं, बल्कि डोमेस्टिक क्रिकेट में उन्हें अचानक मौका मिला। उन्होंने बताया कि 2010 में साउथ अफ्रीका के खिलाफ नागपुर में पहला टेस्ट मैच था, तब टीम में जगह मिली, लेकिन कोच गैरी कर्स्टन ने साफ कर दिया था कि वह आखिरी 11 में नहीं है। इसी दौरान उन्हें पता चला की वीवीएस लक्ष्मण इंजरी की वजह से नहीं खेल पाएंगे, उनके जगह रोहित शर्मा को रखा, लेकिन प्रैक्टिस के दौरान साहा के साथ  रोहित शर्मा टकरा गए और चोटिल हो गए और फिर थोड़ी देर बाद धोनी ने साहा के पास आकर कहा कि वह आज टीम में हैं और इस तरह उन्हें अपना पहला टेस्ट मैच खेलने का मौका मिला। 

सबसे पहले बनाया यह रिकॉर्ड
PunjabKesari
साहा पहले ऐसे भारतीय विकेटकीपर हैं जिन्होंने भारत और विदेश (एशिया से बाहर) दोनों जगह शतक लगाए हैं। वे भारत में दो और वेस्टइंडीज में एक शतक लगा चुके हैं हालांकि इस सूची में अब ऋषभ पंत भी हैं जि भारत और इंग्लैंड दोनों जगह शतक लगा चुके हैं. साहा वैसे तो निर्विवाद रूप से भारत के टेस्ट विकेटकीपर हैं।

ऋद्धिमान साहा का क्रिकेट करियर यूं रहा 
PunjabKesari
साहा के क्रिकेट करियर की बात करें तो अब तक इन्होंने 35 टेस्ट मैच खेलें, जिसमें इनका स्कोर 1209 रन बनाए हैं। वनडे क्रिकेट में ज्यादा मौका नहीं मिला। अब तक इन्होंने 9 वनडे खेलें है, जिसमें इनका स्कोर 41 ही हैं। वहीं आईपीएल में इन्होंने 120 मैंचों में 1765 रन बनाए है। उन्होंने 2014 में इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में किंग्स इलेवन पंजाब के लिए खेलते हुए फाइनल में शतक जड़ा था। 















































































 

.
.
.
.
.