Sports

नयी दिल्ली : भारतीय महिला फुटबॉल टीम की फारवर्ड बाला देवी ने स्कॉटलैंड में खेल के मैदान पर वापसी की जहां वह स्कॉटलैंड की शीर्ष लीग में हर्ट्स वुमेन एफसी पर रेंजर्स एफसी की 5-1 की जीत के दौरान दूसरे हाफ में स्थानापन्न खिलाड़ी के रूप में उतरीं। मणिपुर की इस 30 साल की खिलाड़ी ने कोविड-19 महामारी के कारण पूरी दुनिया में लागू लॉकडाउन के बीच ग्लास्गो में ही रहने का फैसला किया था। बाला देवी ने रविवार से शुरू हुई स्कॉटिश वुमेन्स प्रीमियर लीग के दौरान फुटबॉल के मैदान पर वापसी की।

द-एआईएफएफ.कॉम ने बाला देवी के हवाले से कहा, ‘‘फुटबॉल के मैदान पर एक बार फिर वापसी करना काफी अच्छा रहा। मैदान से इतने महीनों तक दूर रहना अच्छा अहसास नहीं था। उन्होंने कहा- लेकिन इतने महीनों की कड़ी मेहनत काम आई और हमने जीत के साथ शुरुआत की लेकिन यह सिर्फ लंबे सत्र की शुरुआत है। बाला देवी पिछले लगभग दो महीने से रेंजर्स के साथ ट्रेनिंग कर रही थी।

उन्होंने कहा- मैं पिछले कुछ महीनों से टीम के साथ ट्रेनिंग कर रही थी और उम्मीद थी कि लीग शुरू होने पर हम शारीरिक रूप से तैयार रहेंगे। बाला देवी ने कहा- बेशक हमारी टीम ने हमें फिटनेस कार्यक्रम सौंपा था जिसका पालन करना महामारी के दौरान स्वैच्छिक था। लेकिन मैंने मुझे सौंपे गए ट्रेनिंग कार्यक्रम का पालन किया।

इस भारतीय फुटबॉलर ने कहा- मैंने घर पर ही वर्कआउट किया, इंडोर ट्रेनिंग। जब बाहर निकलना सुरक्षित था तो मैंने ग्लास्गो में अपने घर के समीप अधिकांश ट्रेनिंग की। काफी खुली जगह होने के कारण मैं दौड़ भी लगा सकी और इससे मैंने अच्छा महसूस किया।

.
.
.
.
.