Sports

लंदन : इंग्लैंड के तेज़ गेंदबाज़ जेम्स एंडरसन लार्ड्स में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 14 अगस्त से खेले जाने वाले दूसरे एशेज़ टेस्ट से बाहर हो गए हैं। उन्हें एजबस्टन में खेले गए पहले मुकाबले के दौरान पिंडली में चोट लग गई थी। एंडरसन पहले मैच के पहले ही दिन मैदान से अपने चार ओवर के बाद ही बाहर चले गए थे और फिर वापिस गेंदबाज़ी के लिए नहीं उतरे, हालांकि उन्होंने बल्लेबाज़ी की थी और इंग्लैंड की दोनों पारियों में असहज दिखाई दिए थे।

PunjabKesari

एंडरसन का एमआरआई कराने के बाद उनकी चोट की पुष्टि हुई है। उन्हें अब रिहैबिलिटेशन से गुजरना होगा और इंग्लैंड तथा लंकाशायर की मेडिकल टीमें उनके साथ काम करेंगी। इंग्लिश खिलाड़ी को जुलाई के शुरूआत में काउंटी चैंपियनशिप के दौरान लंकाशायर के लिए खेलते हुए इसी तरह की चोट लगी थी। लेकिन एजबस्टन टेस्ट से पूर्व उन्होंने अपने विभिन्न फिटनेस टेस्ट पास कर लिए थे और टीम का हिस्सा बने। इंग्लैंड हालांकि यह मैच आस्ट्रेलिया से 251 रन से हार गया था और पांच टेस्टों की एशेज़ सीरीज़ में 0-1 से पिछड़ गया है, ऐसे में एंडरसन की कमी घरेलू टीम को महसूस होगी। एंडरसन के दूसरी पारी में गेंदबाजी न करने से इंग्लैंड की गेंदबाजी पर असर पड़ा जिसका फायदा उठाते हुये आस्ट्रेलिया ने दूसरी पारी में सात विकेट पर 487 रन बनाकर पारी घोषित की और फिर जीत दर्ज कर ली। 

PunjabKesari

इंग्लैंड को हालांकि उम्मीद है कि लार्ड्स के दूसरे एशेज़ टेस्ट के बाद बाकी तीन बचे मैचों तक एंडरसन ठीक होकर वापिस लौट आयेंगे और 22 अगस्त से लीड्स में होने वाले मैच में खेल सकेंगे। हालांकि उनकी चोट को देखते हुये माना जा रहा है कि ओल्ड ट्रेफडर् में सितंबर के शुरू में होने वाले चौथे टेस्ट तक वह टीम में वापसी कर पाएंगे। उन्हें उनके रिहैबिलिटेशन प्रक्रिया के अनुसार आंका जाएगा। एंडरसन की अनुपस्थिति में जोफरा आर्चर के जगह लेने की प्रबल संभावना है, हालांकि वह खुद भी फिट नहीं हैं और इस सप्ताह अपनी फिटनेस आंकने के लिये ससेक्स की ओर से तीन दिवसीय मैच में खेलेंगे। इस बीच इंग्लिश कप्तान जो रूट ने एंडरसन को पूरी तरह फिट नहीं होने के बावजूद अंतिम एकादश में शामिल करने के अपने फैसले का बचाव किया है। उन्होंने कहा, ‘एंडरसन ने फिटनेस टेस्ट पास किये थे और चोट कभी भी लग सकती है। यह निराशाजनक है कि वह बाहर हो गये हैं लेकिन हम लार्ड्स में उम्मीद के मुताबिक खेलने का प्रयास करेंगे।' 

.
.
.
.
.