Sports

गुरुग्राम : भारतीय एथलेटिक्स महासंघ (एएफआई) ने राष्ट्रीय शिविर में शामिल एथलीटों को ‘बिना स्वीकृति’ के घर के लिए जाने की मंजूरी देने के लिए मुख्य राष्ट्रीय कोच राधाकृष्णन नायर को फटकार लगाई। एएफआई के योजना आयोग के अध्यक्ष ललित भनोट ने मुख्य कोच राधाकृष्णन नायर को कहा है कि वह सभी एथलीटों से हलफनामा लें कि राष्ट्रीय शिविर के अंत तक वे अपने ट्रेनिंग केंद्र को छोड़कर नहीं जाएंगे।

नाराज भनोट ने कहा- शविर में पूरी तरह से अराजकता है। आप खिलाड़ियों को छुट्टी कैसे दे सकते हैं, उन्हें घर जाने की स्वीकृति किसने दी? भनोट ने यहां एएफआई की वार्षिक आम बैठक के दौरान कहा, ‘‘आप उन्हें पारिवारिक कारणों , वेतन लेने और अन्य कारणों से घर जाने की स्वीकृति दे रहे हैं। इसलिए ऐसा लगता है कि ट्रेनिंग को छोड़कर सब कुछ महत्वपूर्ण है।

एएफआई अध्यक्ष आदिले सुमारिवाला ने भनोट से सहमति जताई और नायर को राष्ट्रीय शिविर का नियंत्रण लेने को कहा। नीरज चोपड़ा और हिमा दास जैसे भारत के शीर्ष ट्रैक एवं फील्ड खिलाड़ी एनआईएस पटियाला और बेंगलुरू में भारतीय खेल प्राधिकरण के केंद्र में ट्रेनिंग कर रहे हैं। राष्ट्रीय शिविर में शामिल कुछ खिलाड़ी हालांकि अपने परिवार से जुड़े विभिन्न कारणों से हाल में घर गए हैं।

भनोट ने शिविर के अंदर कड़े अनुशासन का पालन नहीं करने के लिए नायर को फटकार भी लगाई। उन्होंने कहा- इस तरह की चीजें के बाद हम प्रक्रियागत और कड़ी ट्रेनिंग कैसे कर पाएंगे। यह पेशेवर रवैया नहीं है और इससे हमें कोई पदक (ओलंपिक में) नहीं मिलने वाला। भनोट ने नायर को चोपड़ा और भाला फेंक के एक अन्य खिलाड़ी शिवपाल सिंह, गोला फेंक के तेजिंदर पाल सिंह तूर और फर्राटा धाविका हिमा की ट्रेनिंग की स्थिति की जानकारी देने को कहा।

नायर ने इस पर जवाब दिया- तूर को मामूली चोट के कारण तीन हफ्ते के आराम की जरूरत है, नीरज के साथ कोई समस्या नहीं है और शिवपाल बिलकुल ठीक है। हिमा ने निजी फिजियो की मांग की है।

.
.
.
.
.