Sports

बासेल : भारत की पीवी सिंधू ने जापान की नोजोमी ओकुहारा को रविवार को एकतरफा अंदाज में 21-7, 21-7 से हराकर विश्व बैडमिंटन प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक जीतकर नया इतिहास रच दिया। सिंधू विश्व चैंपियनशिप में स्वर्ण जीतने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी बन गईं हैं। सिंधू ने बड़े टूर्नामेंटों के फाइनल में हारने का गतिरोध आखिर आज तोड़ दिया और वह भारत की बैडमिंटन में पहली विश्व चैंपियन बन गईं।

PunjabKesari

सिंधू पिछले दो साल विश्व चैंपियनशिप के फाइनल में हारी थीं लेकिन इस बार उन्होंने कोई चूक नहीं की और जबरदस्त प्रदर्शन करते हुए ओकुहारा को पराजित कर दिया। ओलंपिक रजत विजेता सिंधू का विश्व चैंपियनशिप में यह पांचवा पदक है। वह इससे पहले दो रजत और दो कांस्य पदक जीत चुकी हैं। पांचवीं सीड सिंधू ने तीसरी सीड ओकुहारा को 37 मिनट में पराजित कर भारत में जश्न की लहर दौड़ा दी। 

PunjabKesari

खेल मंत्री किरन रिजीजू ने दी बधाई 

सिंधू की इस ऐतिहासिक जीत पर खेल मंत्री किरन रिजीजू ने उन्हें बधाई दी है। रिजीजू ने ट्वीट करते हुए लिखा, पीवी सिंधी इतिहास रचते हुए विश्व बैडमिंटन चैम्पियनशिप जीतने वाली पहली भारतीय बन गई है। उन्होंने जापान की ओकुहारा को विमेंस सिंगल फाइनल में 21-7, 21-7 से हराया। भारत को गौरव दिलाने के लिए विश्व चैंपियन को बधाई। 

 

दो बार करना पड़ा था रजत पदक से संतोष

पांचवीं सीड सिंधू पिछले दो साल इस टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंची लेकिन दोनों बार उन्हें रजत पदक से ही संतोष करना पड़ा। हालांकि इस बार सिंधू इतिहास रचने में कामयाब रही और ओकुहारा को हराकर गोल्ड अपने नाम कर लिया। 

.
.
.
.
.