Sports

जालन्धर : इंगलैंड दौरे पर महज एक पारी में शतक लगाने वाले केएल राहुल का बल्ला वैस्टइंडीज के खिलाफ दो टेस्ट मैचों की सीरीज में फिर से खामोश हो गया है। राजकोट में वेस्टइंडीज के खिलाफ पहले टेस्ट में राहुल पहली ही ओवर में शून्य पर आऊट हो गए थे। अब हैदराबाद में खेले जा रहे दूसरे टेस्ट में भी वह सिर्फ 4 ही रन बना पाए। लगातार नाकामियों के कारण केएल राहुल पर 2018 के सबसे खराब ओपनर का ठपा लगता जा रहा है। 

PunjabKesari

2018 में केएल राहुल बतौर ओपनर 12 पारियों में सिर्फ 296 रन ही बना पाए हैं। यह साल का तीसरा सबसे खराब प्रदर्शन है। इस लिस्ट में कीटन जिनिग्स पहले नंबर पर हैं। जीनिग्स भी इन दिनों खराब फॉर्म से जूझ रहे हैं। पिछली 10 पारियों में वह 19 की औसत से 192 रन ही बना पाए हैं। लिस्ट में दूसरे नंबर पर 11 पारियों में 233 रन बनाकर मुरली विजय तो 11 पारियों में 301 रन बनाकर शिखर धवन चौथे स्थान पर बने हुए हैं।

पिछली 9 पारियों में 5 बार बोल्ड हुए हैं राहुल

PunjabKesari

राहुल का अगर पिछली 9 पारियों का रिकॉर्ड देखा जाए तो वह 4 बार पगबाधा तो 5 बार बोल्ड आऊट हुए हैं। यह किसी भी टेस्ट बल्लेबाज के लिए खराब आंकड़ा कहा जा सकता है। बड़ी बात यह है कि केएल राहुल को भारतीय टेस्ट क्रिकेट में भविष्य का ओपनर सितारा देखा जा रहा है। लेकिन पिछली कुछ पारियों में उन्होंने ऐसा प्रदर्शन किया है कि अब सिलेक्टर को भी उन्हें टीम में रखे या न पर फैसला लेना पड़ सकता है। भारतीय टीम ने अब ऑस्ट्रेलिया का कठिन दौरा करना है। ऐसे में खराब फॉर्म में चल रहे केएल राहुल को ऑस्ट्रेलिया दौरे पर ले जाने का टीम मैनेजमैंट रिस्क नहीं लेना चाहेगी। केएल राहुल का बल्ला थमने से टेस्ट क्रिकेट से बाहर हुए शिखर धवन की फिर से वापसी होने के हालात बन गए हैं।

.
.
.
.
.