Sports

 

नानिंग (चीन) : भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी सुदीरमन कप में मंगलवार को यहां ग्रुप वन डी के मुकाबले में जब मलेशिया के युवा खिलाड़ियों के खिलाफ उतरेंगे तो उनकी कोशिश टीम को नाकआउट में जगह दिलाने पर होगी। मलेशिया की टीम दिग्गज ली चोंग वेई के बिना मैदान में उतरेगी ऐसे में भारत की नजरें जीत दर्ज करने पर होगी क्योंकि इस मुकाबले में अगर उलटफेर हुआ तो टीम को चीन के खिलाफ करो या मरो के मैच में भिड़ना होगा।

चीन ने मलेशिया को 5-0 से शिकस्त दी और भारत के खिलाफ हार से टीम टूर्नामेंट से बाहर हो जाएगी। भारत 2011 और 2017 में इस टूर्नामेंट के क्वार्टर फाइनल में पहुंचा है जबकि मलेशिया 2009 में सेमीफाइनल में पहुंचा था। भारत की 13 सदस्यीय टीम को आठवीं वरीयता दी गयी है और टीम राष्ट्रमंडल खेलों 2018 में स्वर्ण पदक जीतने के क्रम में मलेशिया के खिलाफ अपने शानदार प्रदर्शन से प्रेरणा लेना चाहेगी। मिश्रित टीम प्रतियोगिता में भारत का प्रदर्शन एकल खिलाड़ियों पर निर्भर करेगा जिसमें बीडब्ल्यूएफ विश्व टूर फाइनल की विजेता पीवी सिंधु, इंडोनेशिया मास्टर्स चैंपियन (2019) साइना नेहवाल, इंडिया ओपन (2019) के उपविजेता किदांबी श्रीकांत और बीडब्ल्यूएफ विश्व टूर के सेमीफाइनलिस्ट समीर वर्मा शामिल है।

महिला एकल में गोह जिन वेई और सानिया चेअह मलेशिया की अगुवाई करेंगी जबकि पुरूष एकल में चोंग वेई की गैरमौजूदगी में ली झी जिया इस जिम्मेदारी को निभाएंगे। युगल में सात्विकसाइराज रंकिरेड्डी की वापसी से पुरूष युगल और मिश्रित युगल में भारत की संभावना अच्छी होगी। पुरूष युगल में चिराग शेट्टी उनके जोड़ीदार होंगे जबकि मिश्रित युगल में अश्विनी पोनप्पा उनके साथ चुनौती पेश करेंगी। भारतीय टीम बुधवार को 10 बार की चैम्पियन चीन से भिड़ेगी।

.
.
.
.
.