Sports

जालन्धर : मलेशिया ओपन लेट होने से भारत को इसका बड़ा फायदा होने जा रहा है। पिछले साल मलेशिया ओपन 4 से 9 अप्रैल को हुआ था। इस बार कॉमनवैल्थ गेम्स के कारण यह हो नहीं पाया। ऐसे में मौजूदा नंबर वन और वल्र्ड चैंपियन डैनमार्क के विक्टर एक्सलसन अपना शीर्ष स्थान खो सकते हैं। दरअसल बैडमिंटन रैंकिंग 52 सप्ताह के समय के हिसाब से तय होती है। इस समयावधि में खेले गए टॉप 10 टूर्नमैंट के अंकों का आंकलन किया जाता है। 
एक्सलसन अभी 77130 अंक के साथ शीर्ष पर हैं लेकिन नई रैंकिंग में वह 1660 अंक खो देंगे। इसका बड़ा फायदा भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी किदांबी श्रीकांत को मिलेगा। उनका दुनिया का नंबर वन खिलाड़ी बनना तय है।

बीते साल 26 साल के श्रीकांत ने चार सुपर सीरीज - इंडोनेशिया, ऑस्ट्रेलिया, डैनमार्क, फ्रांस जीती थीं। इस प्रदर्शन के चलते वह 2 नवंबर 2017 को दुनिया के दूसरे नंबर के खिलाड़ी भी बन गए थे। लेकिन इसके बाद चोट के कारण वह साल के अंत में कुछ टूर्नामैंट नहीं खेल पाए जिसका खामियाजा उन्हें रैंकिंग गंवाकर चुकाना पड़ा। इस बीच साल में चार सुपर सीरीज जीतने वाले श्रीकांत को स्पोट्र्समैन ऑफ इ ईयर अवॉर्ड से भी सम्मानित किया गया था।

श्रीकांत आधुनिक युग में इस मुकाम पर पहुंचने वाले भारत के पहले पुरुष खिलाड़ी होंगे। महिलाओं के वर्ग में साइना नेहवाल मार्च 2015 में दुनिया की पहले नंबर की खिलाड़ी बन चुकी हैं। बता दें कि कंप्यूराइज्ड रैंकिंग सिस्टम लागू होने से पहले प्रकाश पादुकोण 1980 में चोटी के तीन टूर्नमैंट जीतने के बाद नंबर वन खिलाड़ी बने थे। श्रीकांत के अभी 76895 अंक हैं जो उन्हें टॉप तक ले जाने के लिए काफी है।

.
.
.
.
.