Sports

स्पोर्ट्स डेस्क : बीसीसीआई के आचरण अधिकारी डीके जैन ने शनिवार को पूर्व भारतीय कप्तान कपिल देव की अगुवाई वाली क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसी) को हितों के टकराव के संबंध में नोटिस भेजा है जिसका जवाब 10 अक्टूबर तक देना होगा। अगर सीएसी को हितों के टकराव का दोषी पाया जाता है तो भारतीय क्रिकेट टीम के फिर से कोच बने रवि शास्त्री के लिए बड़ी मुश्किल खड़ी हो सकती है। एक अधिकारी के मुताबिक ऐसी स्थिति में भारतीय कोच का चयन फिर से किया जाएगा। 

एक समाचार एजेंसी से बातचीत के दौरान अधिकारी ने कहा, 'भारतीय टीम के मुख्य कोच का चुनाव करने वाली समिति को हितो के टकराव मामले में दोषी पाया जाता है तो मुख्य कोच कोच की नियुक्ति की प्रक्रिया फिर से होगी। ऐसे में बीसीसीआई के नए संविधान को ध्यान में रखते हुए पहले नई समिति का दोबारा से गठन होगा और उसके बाद नई नियुक्ति की पूरी प्रक्रिया को फिर से दोहराया जाएगा तथा नए कोच का चयन होगा। 

PunjabKesari

एमपीसीए के सदस्य संजीव गुप्ता ने दर्ज कराई शिकायत 

मध्य प्रदेश क्रिकेट संघ (एमपीसीए) के सदस्य संजीव गुप्ता ने सीएसी समिति में शामिल तीनों सदस्यों के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाते हुए कहा कि सीएसी के सदस्य क्रिकेट से जुड़े और भी कई कामों में शामिल हैं। उन्होंने कहा कि कपिल देव सीएसी के अलावा क्रिकेट कॉमेंट्री करते हैं जबकि एक फ्लडलाइट कंपनी के मालिक हैं साथ ही वह भारतीय क्रिकेटर्स संघ के सदस्य हैं। वहीं बीसीसीआई संविधान के मुताबिक सीएसी का कोई भी सदस्य क्रिकेट से जुड़े किसी भी अन्य पद पर कार्यरत नहीं होना चाहिए। 

.
.
.
.
.