Sports

नई दिल्ली : इंग्लैंड के खिलाफ पांचवें टेस्ट के लिए भारतीय टीम में वापसी करने वाले चेतेश्वर पुजारा का मानना है कि आईपीएल 2022 में किसी टीम का उनको न खरीदना उनके लिए वरदान साबित हुआ। आईपीएल में न बिकने के बाद पुजारा ससेक्स की ओर से काउंटी क्रिकेट खेलने के लिए इंग्लैंड चले गए थे। काउंटी में पुजारा के शानदार प्रदर्शन के बाद उन्हें भारतीय टीम में शामिल किया गया है। 

पुजारा ने कहा कि आप यह कह सकते हैं (कि आईपीएल में न बिकना मेरे लिए फायदेमंद रहा)। अगर कोई आईपीएल टीम मुझे खरीद भी लेती तो मुझे मैच खेलने का मौका नहीं मिलता। मैं सिर्फ अभ्यास के लिए (मैदान तक) जाता। मैच अभ्यास और नेट्स अभ्यास में हमेशा फर्क होता है। इसलिए जब काउंटी क्रिकेट शुरू हुआ, मैंने उसके लिए हामी भर दी। काउंटी को हां कहने का मुख्य कारण यह था कि मैं अपनी पुरानी लय वापस चाहता था।

पुजारा ने कहा कि काउंटी में मई और अप्रैल में 06, 201, 109, 12, 203, 16, 170 और 03 के निजी स्कोर के साथ पुजारा ने ससेक्स के लिये खेले गए पांच मुकाबलों में 120 के औसत से 720 रन बनाए। इंग्लैंड जाने से पहले पुजारा को श्रीलंका के खिलाफ मार्च में खेली गई टेस्ट सीरीज़ के लिए टीम में शामिल नहीं किया गया था। 

पुजारा ने टीम से बाहर जाने से पहले अपने अनुभव के बारे में कहा कि मैं सिर्फ अपनी पुरानी लय हासिल करने की कोशिश कर रहा था। अगर आप बीते समय में मेरी पारियां देखेंगे तो मैं 80, 90 के आंकड़े को छू रहा था, इसलिए मुझे कभी यह नहीं लगा कि मैं फॉर्म से बाहर हूं। मैं बड़ी पारियां खेलने का प्रयास कर रहा था। अपने पुराने स्तर पर पहुंचने के लिये मुझे 100 नहीं बल्कि 150 से अधिक रनों की पारी खेलनी थी। मुझे इंग्लैंड में यह करने का मौका मिला। 
 

.
.
.
.
.