Sports

नई दिल्ली : नई दिल्ली मैराथन में एलीट महिला वर्ग में हाफ मैराथन का खिताब जीतने वाली ज्योति सिंह को प्रतिबंधित पदार्थ के लिए पाजीटिव पाया गया है। राष्ट्रीय डोपिंग रोधी एजेंसी (नाडा) ने ज्योति को 14 मई से अस्थाई रूप से निलंबित किया गया है। नई दिल्ली मैराथन का आयोजन 24 फरवरी को किया गया था। ज्योति से इस स्पर्धा का स्वर्ण पदक छीना जाना तय है।

रेस निदेशक नागराज अडिगा का कहना है कि अगर यह सही है तो उससे स्वर्ण पदक छीना जाएगा। रजत पदक विजेता को स्वर्ण पदक मिलेगा। नाडा ने साथ ही कहा कि 2010 दिल्ली राष्ट्रमंडल खेलों के स्वर्ण पदक विजेता भारोत्तोलक के रवि कुमार को भी प्रतिबंधित पदार्थ के लिए पाजीटिव पाए जाने पर अस्थाई रूप से निलंबित किया गया है।

रवि से पूर्व पिछले महीने एक दर्जन से अधिक भारोत्तोलक डोप परीक्षण में विफल रहे थे। रवि का नमूना फरवरी में विशाखापत्तनम में 71वीं पुरुष और 34वीं महिला सीनियर राष्ट्रीय भारोत्तोलन प्रतियोगिता के दौरान लिया गया था। नाडा के अनुसार राष्ट्रीय चैंपियनशिप में हिस्सा लेने वाले पांच अन्य भारोत्तोलक वीरेंदर सोलंकी (96 किग्रा), दीपिका (49 किग्रा), विशाल सोलंकी (109 किग्रा), सीमा (81 किग्रा) और पूर्णिमा पांडे (87 किग्रा) भी पाजीटिव पाए गए हैं।

पुणे में खेलो इंडिया युवा खेलों में पदक जीतने वाले पहलवान रोहित अहिरे (ग्रीमो रोमन 72 किग्रा) और तैराक साहिल पवार (50 मीटर फ्रीस्टाइल) को भी प्रतिबंधित पदार्थ के लिए पाजीटिव पाए जाने पर अस्थाई रूप से निलंबित किया गया है। नाडा के डोपिंग रोधी अपील पैनल ने 2014 एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाली भारतीय टीम की सदस्य 400 मीटर दौड़ की धाविका प्रियंका पंवार को 8 साल के लिए निलंबित करने के अनुशासनात्मक पैनल के फैसले को बरकार रखा है।

प्रियंका को 2016 में दूसरी बार पाजीटिव पाया गया था। इससे पहले 2011 में भी वह डोप परीक्षण में विफल रही थी। पैनल ने हालांकि हाकी खिलाड़ी आकाश चिक्ते पर लगे दो साल के प्रतिबंध को 13 महीने का कर दिया। नाडा ने साथ ही पुष्टि की कि डोप परीक्षण में विफल रहने वाले पहले भारतीय टेनिस खिलाड़ी बने 16 साल के आर्यन भाटिया को डोपिंग रोधी अनुशासन पैनल ने कोई सजा नहीं दी है।

.
.
.
.
.