Sports

नई दिल्ली : टोक्यो ओलंपिक की कांस्य पदक विजेता लवलीना बोरगोहेन (69 किग्रा) को भारतीय मुक्केबाजी महासंघ ने आगामी महिला विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप के लिए टीम में सीधे जगह दी है। महासंघ ने फैसला किया है कि टीम की बाकी सदस्य आगामी राष्ट्रीय चैंपियनशिप की स्वर्ण पदक विजेता होंगी। राष्ट्रीय चैंपियनशिप का आयोजन हिसार में 21 अक्टूबर से किया जाएगा और हाल में संपन्न पुरुष राष्ट्रीय चैंपियनशिप की तरह इस प्रतियोगिता के विजेता मुक्केबाजों को भी विश्व चैंपियनशिप की टीम में जगह दी जाएगी। 

भारतीय मुक्केबाजी महासंघ ने कहा कि प्रत्येक वजन वर्ग की स्वर्ण पदक विजेता एआईबीए महिला विश्व चैंपियनशिप में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगी। सिर्फ 69 किग्रा वर्ग में ऐसा नहीं होगा क्योंकि टोक्यो ओलंपिक की कांस्य पदक विजेता लवलीना बोरगोहेन को विश्व चैंपियनशिप के लिए सीधे क्वालीफिकेशन दिया गया है। स्वर्ण और रजत पदक विजेताओं को राष्ट्रीय शिविर में भी जगह मिलेगी। कांस्य पदक विजेताओं और पिछले तीन टूर्नामेंट के पदक विजेताओं के बीच ट्रायल से शिविर के अन्य मुक्केबाजों पर फैसला होगा। 

टोक्यो खेलों में प्रदर्शन के आधार पर टीम में जगह पक्की होने के बाद 24 साल की लवलीना का राष्ट्रीय चैंपियनशिप से बाहर रहना लगभग तय है। महिला विश्व चैंपियनशिप दिसंबर में इस्तांबुल में होगी। टूर्नामेंट की तारीखों की अभी घोषणा नहीं हुई है। सर्बिया के बेलग्राद में 24 अक्टूबर से होने वाली पुरुष विश्व चैंपियनशिप का शिविर अभी तक शुरू नहीं हुआ है। महासंघ के एक सूत्र ने बताया कि अगले कुछ दिनों में इसकी शुरुआत पटियाला में हो सकती है। इस बीच टीम के साथ बेलग्राद जाने वाले कोचिंग स्टाफ को लेकर लगातार विचार विमर्श हो रहा है। सूत्र ने कहा कि समय निकल रहा है। उम्मीद करते हैं कि अगले दो दिन में चीजें आगे बढ़ेंगी। 

.
.
.
.
.