Sports

नई दिल्लीः भारत के एशियाई खेलों के इतिहास में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन में कई ऐसे गुमनाम खेलों की महत्वपूर्ण भूमिका रही जिनके बारे में अब से पहले चंद ही लोग जानते थे। इंडोनेशिया के जकार्ता और पालेमबंग में रविवार को समाप्त हुये 18वें एशियाई खेलों में भारत ने 15 स्वर्ण, 24 रजत और 30 कांस्य सहित कुल 69 पदक जीतकर पिछले 67 वर्षाें में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया। इस प्रदर्शन में कुछ ऐसे खेलों की अहम भूमिका रही जिनके बारे में सामान्य ज्ञान की किताबों में भी जानकारी नहीं मिलती है। 

PunjabKesari

कुराश, वुशु, सेपकटकरा से भारत की चमकी किस्मत 
इन खेलों से यदि किसी कुराश या सेपकटकरा के बारे में पूछा जाए तो संभवत: वह बगलें झांकता नजर आएगा। लेकिन इंडोनेशिया में हुये एशियाई खेलों ने ऐसे अनजान खेलों से अब हर भारतीय को अवगत करा दिया है। कुछ ऐसे खेल थे जिनके नाम तो सुने थे लेकिन उनके बारे में विस्तृत जानकारी नहीं थी। एशियाड के प्रदर्शन से अब ऐसे खेलों के बारे में भी जानकारी सामने आ गयी है। भारत ने उज्बेकिस्तान के परंपरागत खेल कुराश में एक रजत और एक कांस्य सहित दो पदक हासिल किये जबकि वुशू में भारत को चार कांस्य पदक मिले। पैरों की मदद से गेंद के साथ खेले जाने वाले खेल सेपकटकरा में भारत ने ऐतिहासिक कांस्य हासिल किया। 

PunjabKesari

एशियाई खेलों में ही आती है सेलिंग और रोइंग की याद
सेलिंग और रोइंग तो खैर जाने माने नाम हैं लेकिन इनकी याद हमेशा चार साल बाद एशियाई खेलों के समय ही आती है। भारत ने रोइंग में एक स्वर्ण और दो कांस्य सहित तीन पदक और सेलिंग में एक रजत और दो कांस्य सहित तीन पदक हासिल किये।  घुड़सवारी जाना पहचाना नाम है लेकिन इसके लिये भारतीय टीम को आखिरी क्षणों में केंद्रीय खेल मंत्रालय की ओर से मंजूरी मिली थी। घुड़सवारी महासंघ ने पहले टीम घोषित की लेकिन फिर अपने चयन को ही अवैध करार दिया और भारतीय ओलंपिक संघ ने इस टीम की एशियाड दल से छुट्टी कर दी।

PunjabKesari 

ब्रिज में भी भारत ने जीता एक गोल्ड
मंत्रालय ने इस टीम को मंजूरी दिलाई और घुड़सवारों ने 1982 के नयी दिल्ली एशियाई खेलों के बाद पहली बार घुड़सवारी में दो रजत जीते। ब्रिज जो ताश का खेल है और जिसे बतौर खेल कम मान्यता है, उसमें भारत ने एक स्वर्ण और दो कांस्य सहित तीन पदक जीत लिये। ब्रिज में दो बुजुर्ग खिलाड़ियों 60 साल के प्रणब बर्धन और 56 साल के शिबनाथ सरकार ने स्वर्ण दिलाया। इस स्वर्ण से देश में ब्रिज को एक खेल के रूप में आधिकारिक मान्यता पाने में मदद मिलेगी।  भारत ने इन अनजान खेलों में कुल 69 पदकों में से 18 पदक हासिल किये और इन पदकों का ही नतीजा है कि भारत ने एशियाई खेलों के 67 वर्षाें के इतिहास में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर डाला।

PunjabKesari

.
.
.
.
.