Sports

वेलिंगटन : न्यूजीलैंड के अनुभवी बल्लेबाज रॉस टेलर ने 2023 एकदिवसीय विश्व कप में खेलने की संभावना से इनकार नहीं करते हुए कहा कि वह टीम में जगह बनाने के काबिल हैं या नहीं, इसका फैसला अगले साल के आखिरी में लय, फिटनेस और खेलने की प्रेरणा पर आधारित होगा। 35 साल का यह खिलाड़ी भारत के खिलाफ यहां 21 फरवरी से शुरू हो रहे टेस्ट मैच से इस प्रारूप का अपना 100वां मैच खेलेगा।

PunjabKesari

वह तीनों प्रारूप में 100 मैच खेलने वाले दुनिया के पहले खिलाड़ी बनेंगे। टेलर ने कहा कि मैं इससे (2023 विश्व कप में खेलने की संभावना) इनकार नहीं करूंगा लेकिन मुझे लगता है कि अभी लंबा सफर तय करना है। मैं अभी अगले साल की तरफ देख रहा हूं और इस दौरान टी20 विश्व कप और घरेलू सत्र से मुझे अपने बारे में पता चलेगा। उन्होंने कहा कि क्या मैं खुद को खेलने के लिए प्रेरित कर पाउंगा? क्या मैं अच्छा खेल पाउंगा? क्या मैं फिट रहूंगा? और क्या मैं टीम में जगह पाने का हकदार रहूंगा? अगर इन सभी सवालों का जवाब हां में मिला तो जाहिर है कि 2023 मेरे लिये एक विकल्प होगा।

PunjabKesari

आक्रामक क्रिकेट से पहचान बनाने वाले इस खिलाड़़ी ने कहा कि वह खेल को जारी रखना चाहते है लेकिन इसके लिए वह खुद पर ज्यादा दबाव नहीं डालेंगे। आप हमेशा अच्छा करना चाहते हैं और सबसे पहले यह खेल जरूरी है और इसके साथ ही आप खुद पर अतिरिक्त दबाव नहीं डाल सकते। आपको मैदान में जाकर खेल का लुत्फ़ उठाना होता है और एक बार में एक मैच के बारे में सोचना होता है। उम्मीद है कि मैं टीम के लिए इसी तरह से योगदान देते रहूंगा।

PunjabKesari

टेलर 100 टेस्ट खेलने के मामले में ब्रेंडन मैकुलम, डेनियल विटोरी और स्टीफन फ्लेमिंग जैसे न्यूजीलैंड के खिलाड़ियों की सूची में शामिल हो जाएंगे। उन्होंने इस मौके पर अपने मेंटोर दिवंगत मार्टिन क्रो को प्रेरित करने के लिए शुक्रिया अदा किया। टेलर ने कहा- उन्होंने (मार्टिन क्रो) मुझमें कुछ ऐसा देखा जो मैंने खुद भी महसूस नहीं किया। मैं तो एक टेस्ट खेलकर काफी खुश रहता लेकिन 100वां टेस्ट खेलना बहुत खास है। 

PunjabKesari

.
.
.
.
.