Sports

नई दिल्लीः राष्ट्रीय टीम के साथ तीन साल के सफल कार्यकाल के दौरान विराट कोहली को कोचिंग देने वाले गैरी कर्स्टन का मानना है कि विराट कोहली की अपने खेल में सुधार के लिए लगातार जारी भूख महान खिलाड़ी की निशानी है। रायल चैलेंजर्स बेंगलूर के सहायक कोच के रूप में कोहली के साथ एक बार फिर काम कर रहे कस्र्टन इससे पहले 2008-11 तक भारतीय टीम को कोचिंग दे चुके हैं। कर्स्टन ने कहा, ‘‘ वह महान खिलाड़ी है। उसमें लगातार सुधार हो रहा है और वह बेहतर बन रहा है। मुझे उसके साथ काम करने में मजा आता है क्योंकि वह हमेशा खेल के बारे में सीखना चाहता हैं और सभी महान खिलाड़ी ऐसा करते हैं। ’’ 

काउंटी खेलना कोहली के लिए है अच्छा
दक्षिण अफ्रीका के इस पूर्व सलामी बल्लेबाज ने इंग्लैंड दौरे से पहले हालात से सामंजस्य बैठाने के लिए काउंटी क्रिकेट खेलने के कोहली के फैसले का भी समर्थन किया। उन्होंने कहा , ‘‘ यह उसकी ( इंग्लैंड दौरे की ) तैयारी के लिए अच्छा है , किसी भी खिलाड़ी के लिए तैयारी अच्छी होती है। ’’ इससे पहले आस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान माइकल क्लार्क ने कोहली के फैसले पर हैरानी जताई थी और उनका मानना था कि भारतीय कप्तान को अफगानिस्तान के खिलाफ ऐतिहासिक टेस्ट में खेलना चाहिए था। कर्स्टन का मानना है कि भारत - इंग्लैंड श्रृंखला प्रतिस्पर्धी होगी। उन्होंने कहा, ‘‘ यह प्रतिस्पर्धी श्रृंखला होती। मैं इसे लेकर उत्साहित हूं। ’’ तेज गेंदबाजी के बारे में पूछने पर कस्र्टन ने कहा कि उन्होंने आईपीएल में जो प्रतिभा देखी उससे वह रोमांचिक हैं और उनका मानना है कि इस लीग की भारतीय क्रिकेट के विकास में बड़ी भूमिका है।            

उन्होंने कहा , ‘‘ मैंने आईपीएल में जो देखा उससे मैं रोमांचित हूं , कुछ अच्छे युवा खिलाड़ी खेल रहे हैं। आईपीएल भारतीय क्रिकेट को आकार देने में काफी मदद कर रहा है। ’’ कर्स्टन ने हाल में पुणे में अपनी अकादमी लांच की और वह प्रतिभा की खोज में यहां आए हैं। उन्होंने युवाओं को आधुनिक कोचिंग मुहैया कराने के लिए ग्रासरूट स्पोट्स अकादमी के साथ साझेदारी की है।  छह शहरों पुणे, बेंगलूर, जयपुर, चेन्नई, दिल्ली और मुंबई से छह - छह खिलाडिय़ों को चुना जाएगा और इन्हें जुलाई में सप्ताहांत ट्रेनिंग कार्यक्रम के लिए पुणे आमंत्रित किया जाएगा। इसके बाद 36 खिलाडिय़ों में से तीन को दो लाख रुपये के दो महीने के रिहायशी हाई परफोर्मेंस शिविर की छात्रवृत्ति मिलेगी। प्रतिभा की खोज के अलावा अकादमी कोच शिक्षा कार्यक्रम भी चलाएगी।      

.
.
.
.
.