Sports

पणजी : भारतीय कप्तान एन बाला देवी ने कहा है कि ऐसा कोई कारण नहीं कि फुटबॉल जगत की दिग्गज टीमें एससी ईस्ट बंगाल और एटीके मोहन बागान अपनी महिला टीमें तैयार करके महिला फुटबॉल में कोलकाता डर्बी का आयोजन नहीं कर सकती। पारंपरिक प्रतिद्वंद्वी मोहन बागान और ईस्ट बंगाल क्रमश: एटीके और श्री सीमेंट से विलय के बाद इंडियन सुपर लीग में पहली बार शुक्रवार को आमने सामने होंगे और बाला देवी को जल्दी ही महिला डर्बी मुकाबले की उम्मीद है।


स्कॉटिश महिला लीग में रेंजर्स एफसी और सेल्टिक एफसी के बीच फुटबॉल की सबसे पुरानी प्रतिद्वंद्विताओं में से एक ‘ओल्ड फर्म डर्बी’ में हाल में हिस्सा लेने वाली बाला देवी ने कहा- कोलकाता के दो बड़े क्लब आसानी से महिला टीम बना सकते हैं। उन्होंने कहा- रेंजर्स और सेल्टिक ने एक साल से भी कम समय पहले अपनी महिला टीमें तैयार की हैं। कोलकाता के हमारे दो क्लब आज से इतने ही समय में ऐसा कर सकते हैं।’’

तीस साल की इस खिलाड़ी ने कहा कि ईस्ट बंगाल और मोहन बागान अगर अपनी महिला टीमें तैयार करते हैं तो इससे देश में महिला फुटबॉल को काफी मदद मिलेगी। उन्होंने कहा- जब मैंने 2002 में जूनियर फुटबॉल खेलना शुरू किया तो हम बंगाल की टीम के खिलाफ फाइनल खेलने के आदी थे। उन दिनों बंगाल की खिलाड़ी काफी कुशल थी। राष्ट्रीय टीम में राज्य की काफी खिलाड़ी थीं।’’

बाला देवी ने कहा- लेकिन अब सिर्फ एक या दो खिलाड़ी हैं। मुझे लगता है कि अगर मोहन बागान और ईस्ट बंगाल वह करते हैं जो सेल्टिक और रेंजर्स कर रहे हैं और महिला टीमें बनाते हैं तो यह सिर्फ बंगाल की नहीं बल्कि भारत के लिए भी फायदेमंद होगा।

.
.
.
.
.