Sports

इंदौर : कागजों पर भले ही यह महज औपचारिकता का मुकाबला हो लेकिन भारतीय गेंदबाजों को मंगलवार को यहां दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ तीन मैच की श्रृंखला के अंतिम मैच में एक बार फिर कड़ी चुनौती का सामना करना होगा। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ घरेलू सरजमीं पर पहली टी20 श्रृंखला जीतने के बाद भारतीय टीम कुछ अहम खिलाड़ियों को आराम देने की स्थिति में है लेकिन टीम छह अक्टूबर को ऑस्ट्रेलिया रवाना होने से पहले एक और शानदार प्रदर्शन करने के लिए प्रतिबद्ध है। 

बारह महीने पहले टी20 विश्व कप के ग्रुप चरण से बाहर होने के बाद भारतीय बल्लेबाजी क्रम ने लंबा सफर तय किया है और अगले महीने ऑस्ट्रेलिया में शुरू होने वाले टी20 विश्व कप से पहले बल्लेबाजी क्रम काफी मजबूत लग रहा है। टीम में अधिकतर बल्लेबाज वही हैं जो यूएई में पिछले टूर्नामेंट में खेले थे लेकिन जिस चीज ने अंतर पैदा किया है वह रवैये में बदलाव है। आईसीसी प्रतियोगिता से पहले भारत के शीर्ष तीन बल्लेबाज काफी अच्छी फॉर्म में हैं। लोकेश राहुल ने रविवार को आक्रामक अर्धशतक जड़कर अपने स्ट्राइक रेट से जुड़ी चिंताओं को दूर किया। 

एशिया कप से विराट कोहली ने 140 से अधिक के स्ट्राइक रेट से रन बनाए हैं और इस दौरान तीन अर्धशतक के अलावा बहुप्रतीक्षित शतक भी जड़ा। कप्तान रोहित शर्मा ने भी ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ घरेलू श्रृंखला के दौरान कुछ प्रभावशाली पारियां खेली। चौथे नंबर पर बल्लेबाजी की जिम्मेदारी संभाल रहे सूर्यकुमार यादव भी शानदार फॉर्म में चल रहे हैं और गेंदबाजों के लिए उन्हें रोकना काफी मुश्किल साबित हो रहा है। 

कप्तान रोहित उनसे इतने अधिक प्रभावित हैं कि उन्हें सीधे पाकिस्तान के खिलाफ 23 अक्टूबर को टीम के विश्व कप के पहले मैच में खिलाने के बारे में सोच रहे हैं। अगर सूर्यकुमार को आराम दिया जाता है जो श्रेयस अय्यर उनकी जगह ले सकते हैं। ऋषभ पंत को श्रृंखला में अब तक बल्लेबाजी का मौका नहीं मिला है। दिनेश कार्तिक को दूसरे टी20 में सात गेंद खेलने को मिली और वह भी बल्लेबाजी का अधिक समय मिलने की उम्मीद कर रहे होंगे। 

जसप्रीत बुमराह की गैरमौजूदगी से गेंदबाजी में भारत की समस्या और बढ़ गई हैं विशेषकर डेथ ओवरों में। यह स्टार तेज गेंदबाज हालांकि अगर टी20 विश्व कप के लिए फिट नहीं होता है तो भारत को उनका विकल्प ढूंढना होगा। विश्व कप के रिजर्व खिलाड़ियों में शामिल दीपक चाहर ने नई गेंद से प्रभावित किया है लेकिन पारी के अंतिम ओवरों में उनकी गेंदबाजी को लेकर सवालिया निशान है। अर्शदीप ने नई और पुरानी गेंद दोनों से प्रभावित किया है लेकिन रविवार को दूसरे टी20 में वह काफी महंगे साबित हुए। बाएं हाथ के इस तेज गेंदबाज ने इस दौरान तीन नोबॉल भी फेंकी। 

चोट के बाद वापसी कर रहे तेज गेंदबाज हर्षल पटेल उतने प्रभावशाली नहीं लगे हैं और वांछित नतीजे हासिल नहीं कर पाए हैं। लाल गेंद के दिग्गज गेंदबाज रविचंद्रन अश्विन अब तक श्रृंखला में एक भी विकेट हासिल नहीं कर पाए हैं और टीम को बीच के ओवरों में उनसे विकेट की उम्मीद होगी। बुमराह की गैरमौजूदगी में टीम में शामिल किए गए मोहम्मद सिराज को होल्कर स्टेडियम में खेलने का मौका मिल सकता है। गुवाहाटी में काफी अधिक आर्द्रता के बीच दक्षिण अफ्रीका के गेंदबाजों को गेंद को पकड़ने में दिक्कत हुई और उन्होंने भारतीय बल्लेबाजों को काफी अधिक फुलटॉस गेंद फेंकी जिसमें वे सुधार करना चाहेंगे। 

श्रृंखला में हार के बावजूद दक्षिण अफ्रीका के लिए बल्लेबाजी विभाग में काफी सकारात्मक पक्ष रहे हैं। डेविड मिलर ने रविवार को नाबाद शतक जड़ा जबकि क्विंटन डिकॉक ने भी विश्व कप से पहले अर्धशतकीय पारी खेली। टीम के लिए सबसे बड़ी चिंता कप्तान तेम्बा बावुमा की फॉर्म है जो श्रृंखला के दो मैच में खाता खोलने में भी नाकाम रहे। 

टीम इस प्रकार है : 

भारत : रोहित शर्मा (कप्तान), लोकेश राहुल, विराट कोहली, सूर्यकुमार यादव, ऋषभ पंत, दिनेश कार्तिक, रविचंद्रन अश्विन, युजवेंद्र चहल, अक्षर पटेल, अर्शदीप सिंह, हर्षल पटेल, दीपक चाहर, उमेश यादव, श्रेयस अय्यर, शाहबाज अहमद और मोहम्मद सिराज। 

दक्षिण अफ्रीका : तेम्बा बावुमा (कप्तान), क्विंटन डिकॉक, ब्योर्न फोर्टुइन, रीजा हेंड्रिक्स, हेनरिक क्लासेन, मार्को जेनसन, केशव महाराज, एडेन मार्कराम, डेविड मिलर, लुंगी एनगिडी, एनरिक नोर्किया, वेन पार्नेल, एंडिले फेहलुकवायो, ड्वेन प्रिटोरियर्स, कागिसो रबादा, रिली रोसेयु, तबरेज शम्सी और ट्रिस्टन स्टब्स। 

.
.
.
.
.