T20-world-cup-2021
Sports

ताइपे / बीजिंग : एक पूर्व शीर्ष सरकारी अधिकारी पर यौन उत्पीडऩ का आरोप लगाने के बाद से चीन की एक पेशेवर टेनिस खिलाड़ी लापता है और अपने सुरक्षित होने का दावा करने वाले उसके ईमेल से उसकी सुरक्षा को लेकर चिंता बढ़ गई है। चीन के विदेश मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा कि उसे इस विवाद के बारे में पता नहीं है। दुनिया भर में खिलाडिय़ों और अन्य ने उसकी कुशलक्षेम और सुरक्षा को लेकर चिंता जताई है। अभी तक दुनिया भर से उठ रहे सवालों का जवाब नहीं मिला है। इस बारे में पूछे जाने पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने बीजिंग में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि यह मामला ‘राजनयिक प्रश्न नहीं है और मुझे स्थिति की जानकारी नहीं है।

star tennis star peng shuai, peng shuai, Email surfaced, Tennis news in hindi, Sports news, फेंग शुआई

पेंग द्वारा दो सप्ताह से अधिक समय पहले आरोप लगाने के बाद से मंत्रालय ने इस मुद्दे की जानकारी होने से लगातार मना किया है। चीनी अधिकारियों ने सार्वजनिक तौर पर कुछ नहीं कहा है। दो सप्ताह पहले ग्रैंडस्लैम युगल चैम्पियन फेंग शुआइ ने आरोप लगाया था कि एक पूर्व शीर्ष सरकारी अधिकारी ने उनका यौन शोषण किया है। चीन के इस पहले ‘मी टू’ मामले को घरेलू मीडिया में जगह नहीं मिली है और इस पर आनलाइन बहस भी सेंसर कर दी गई है।

महिला टेनिस संघ के सीईओ और अध्यक्ष स्टीव साइमन ने उन्हें भेजे गई ईमेल की वैधता पर सवाल उठाए हैं। इसमें फेंग ने कहा है कि वह सुरक्षित है और उत्पीडऩ के आरोप गलत हैं। चीन के सरकारी प्रसारक सीसीटीवी की अंतरराष्ट्रीय ईकाई सीजीटीएन ने यह ईमेल पोस्ट किया। साइमन ने कहा है कि उन्हें यकीन नहीं है कि वह ईमेल शुआइ ने लिखा है और उन्होंने मामले की पूरी जांच की मांग की है। उन्होंने कहा कि उचित जवाब नहीं मिलने पर चीन से टूर्नामेंटों की मेजबानी छीनी जा सकती है।

star tennis star peng shuai, peng shuai, Email surfaced, Tennis news in hindi, Sports news, फेंग शुआई

नाओमी ओसाका और नोवाक जोकोविच ने भी इस मामले पर ट्वीट किया है। आनलाइन ‘वेयर इज फेंग शुआई’ ट्रेंड कर रहा है। सेरेना विलियम्स ने ट्वीट किया है कि वह इस खबर से स्तब्ध और दुखी हैं। उन्होंने कहा कि हमें चुप नहीं रहना चाहिए। इस मामले की जांच होनी चाहिए। अंतरराष्ट्रीय टेनिस महासंघ की प्रवक्ता हीथर बोलेर ने कहा कि वे चीनी टेेनिस संघ के संपर्क में है और डब्ल्यूटीए तथा अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति से भी बात की जा रही है।

.
.
.
.
.