Sports

मेलबर्न : ऑस्ट्रेलिया सरकार ने टेनिस स्टार नोवाक जोकोविच का वीजा दूसरी बार रद्द कर दिया है और उन्हें निर्वासित किया जा सकता है जिससे ऑस्ट्रेलियाई ओपन में दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी के खेल पाने को लेकर बनी अनिश्चितता में एक नया मोड़ आ गया। आव्रजन मंत्री एलेक्स हॉके ने शुक्रवार को कहा कि उन्होंने मंत्री के तौर पर अपने विशेषाधिकार का प्रयोग करके सर्बिया के इस 34 वर्षीय खिलाड़ी का वीजा जनहित आधार पर रद्द कर दिया है। 

ऑस्ट्रेलियाई ओपन तीन दिन बाद शुरू होने वाला है। जोकोविच के वकील फेडरल सर्किट और फैमिली कोर्ट में इसके खिलाफ अपील कर सकते हैं। ऑस्ट्रेलिया से निर्वासित किये जाने पर अगले तीन साल तक देश में प्रवेश पर प्रतिबंध रहेगा। इसके मायने है कि अगले अगली बार जोकोविच जब ऑस्ट्रेलियाई ओपन खेलने आयेंगे तो वह 37 वर्ष के होंगे। हॉके ने कहा कि उन्होंने जनहित को ध्यान में रखकर स्वास्थ्य कारणों से यह फैसला लिया है। 

उन्होंने एक बयान में कहा, ‘मौरिसन सरकार ऑस्ट्रेलियाई सीमाओं की कोरोना महामारी के इस दौर में रक्षा करने को लेकर प्रतिबद्ध है।' मौरिसन ने इस फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि ऑस्ट्रेलिया में कोरोना महामारी के कारण मृत्युदर बहुत कम रही है और टीकाकरण के आंकड़े सबसे ऊंचे रहे हैं। उन्होंने एक बयान में कहा, ‘यह महामारी हर ऑस्ट्रेलियाई के लिए काफी कठिन रही है। हमने साथ मिलकर जानें और आजीविका बचाई। ऑस्ट्रेलियाई लोगों ने महामारी के दौरान काफी कुर्बानियां दी है और वे उम्मीद करते हैं कि उनकी कुर्बानियां बेकार नहीं जानी चाहिए। यही वजह है कि मंत्री ने यह फैसला लिया।' 

ऑस्ट्रेलिया ओपन में उन्हीं खिलाड़ियों, सहयोगी स्टाफ और दर्शकों को प्रवेश मिलेगा जिन्हें कोरोना के टीके लग चुके हैं। जोकोविच ने इस आधार पर मेडिकल छूट मांगी थी कि वह दिसंबर में संक्रमित हुए थे। जोकोविच का वीजा दूसरी बार रद्द हुआ है। पिछले सप्ताह मेलबर्न पहुंचते ही ऑस्ट्रेलिया सीमा बल द्वारा उनका वीजा रद्द कर दिया गया था क्योंकि ऑस्ट्रेलिया के कड़े कोरोना टीकाकरण नियमों से मेडिकल छूट के लिए जरूरी मानदंडों पर वह खरे नहीं उतरते थे। उन्होंने चार रात पृथकवास होटल में बिताई जिसके बाद सोमवार को जज ने उनके पक्ष में फैसला दिया। 

जोकोविच ने रॉड लावेर एरेना में अभ्यास शुरू कर दिया था। उन्हें आज दोपहर को भी अभ्यास करना था लेकिन उन्होंने सुबह जल्दी अभ्यास कर लिया। उन्हें पहले दौर में सर्बिया के ही मियोमिर केसमानोविच से खेलना था। मेलबर्न के आव्रजन वकील कियान बोन ने कहा कि जोकोविच के वकीलों के लिये अब इस फैसले को अदालत में बदलवा पाना काफी मुश्किल होगा। उन्होंने कहा, ‘जोकोविच के लिए अब ऑस्ट्रेलियाई ओपन में खेलने की अनुमति पाना बहुत मुश्किल होगा। अब उनके पास समय भी नहीं है।' 

वकीलों को फेडरल सर्किट एंड फैमिली कोर्ट में एक ड्यूटी जज के पास या फेडरल कोर्ट में सीनियर जज के पास जाकर दो आपात आदेश लेने होंगे। पहला आदेश उनका निर्वासन रोकना और दूसरा हॉके को जोकोविच का वीजा बहाल करने का निर्देश देने का होगा। बोन ने कहा, ‘दूसरा आदेश ऐसा है जो आज तक कभी नहीं हुआ। अदालत सरकार के किसी सदस्य को वीजा जारी करने का आदेश बहुत कम ही देती है।' 

.
.
.
.
.