Sports

बेंगलुरू: भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच पहले टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच में कम रन बनने के बाद कर्नाटक राज्य क्रिकेट संघ (केएससीए) के अधिकारी ने बुधवार को यहां चिन्नास्वामी स्टेडियम में होने वाले दूसरे और अंतिम मुकाबले में ढेरों रन बनने का वादा किया है। चिन्नास्वामी स्टेडियम की पिच पिछले कुछ वर्षों में धीमी हुई है लेकिन पहले मैच के विपरीत यहां बड़ा स्कोर बनने की उम्मीद है।

केएससीए के अधिकारियों को है पिंच से काफी उम्मीदें 
PunjabKesari
विशाखापत्तनम में पहले टी20 में ऑस्ट्रेलिया ने मैच की अंतिम गेंद पर 127 रन का लक्ष्य हासिल किया था। केएससीए के अधिकारी ने कहा, ‘इस पिच पर शायद आईपीएल मैच जितने रन नहीं बने लेकिन इस पर काफी रन बनेंगे। हम ऐसे विकेट का इस्तेमाल कर रहे हैं जिसका उपयोग दो महीने से अधिक समय से नहीं हुआ है। इसका इस्तेमाल पिछली बार विजय हजारे ट्राॅफी के दौरान हुआ था।’ साल के इस समय ओस के भी कोई भूमिका निभाने की उम्मीद नहीं है। अधिकारी ने कहा, ‘इस सतह पर लगभग 180 का स्कोर प्रतिस्पर्धी होना चाहिए।’ यहां पर पिछली टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच फरवरी 2017 में खेला गया था जिसमें भारत ने छह विकेट पर 202 रन बनाने के बाद इंग्लैंड को 75 रन से हराया था।

PunjabKesari
भारतीय आलराउंडर कृणाल पंड्या का भी मानना है कि विकेट बल्लेबाजी के अनुकूल होगा। मैच से एक दिन पहले विकेट पर कुछ घास है लेकिन पूरी संभावना है कि कल तक इसे हटा दिया जाएगा। कृणाल ने कहा, ‘मैंने अब तक विकेट नहीं देखा है लेकिन इसके विजाग की तुलना में बल्लेबाजी के अधिक अनुकूल होने की उम्मीद है।’ 

कुछ सालों से पिंच में आया काफी बदलाव 
PunjabKesari
ऑस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज पैट कमिंस का हालांकि मानना है कि पिछले कुछ वर्षों में पिच की प्रकृति में काफी बदलाव आया है। उन्होंने कहा, ‘पिछले कुछ वर्षों में यह अजीब विकेट रहा है। पहली बार मैं सात-आठ साल पहले आईपीएल के दौरान बेंगलूर आया था। पिछले कुछ वर्षों में विकेट धीमा हुआ है।’ कमिंस ने कहा, ‘विजाग कम स्कोर वाला लेकिन बेहतरीन मैच था। मुझे वहां की पिच पसंद आई। टी20 में आप यार्कर, धीमी गेंद की तैयारी करते हो लेकिन वहां आपको पता था कि अच्छी गेंद काफी अच्छी होने वाली है। गेंद अंत में कुछ स्विंग होती लग रही थी।’

.
.
.
.
.