Himachal Pradesh

ऊना (विशाल): क्षेत्रीय अस्पताल में अव्यवस्थाओं का आलम देखकर अस्पताल में ही मौजूद सदर विधायक सतपाल रायजादा काफी नाराजगी जाहिर की। मामला था अस्पताल में बिजली सप्लाई बंद होने और जैनरेटर एक घंटे बाद भी ऑन न करने का। काफी देर तक अस्पताल प्रबंधन और विधायक के बीच माहौल गर्म रहा और विधायक ने अस्पताल प्रबंधन को व्यवस्थाओं को दुरुस्त करने की नसीहत दी। हुआ यूं कि सोमवार सुबह सदर विधायक सतपाल रायजादा क्षेत्रीय अस्पताल पहुंचे। जहां कुछ देर बाद लाइट चली गई और अस्पताल की ओ.पी.डी. में अंधेरा छा गया। इस दौरान वह अधिकारियों से मिले और उन्होंने लाइट सुचारू करने के लिए जैनरेटर को जल्द ऑन करने को कहा जिस पर अस्पताल स्टाफ ने जवाब दिया कि बस कुछ देर में जैनरेटर ऑन हो जाएगा।

इस दौरान फिर वह अस्पताल के राऊंड पर निकल पड़े। जहां उन्होंने चिकित्सकों को अंधेरे में ही मरीजों को चैक करते पाया। वहीं चिकित्सक व उनके बीच काफी देर तक अंधेरे में बातचीत होती रही। इसके बाद में वह स्वयं जैनरेटर कक्ष तक पहुंचे। जहां उन्होंने ताला लगा पाया और जैनरेटर उन्हें बंद पड़ा मिला। इसके बाद उन्होंने अस्पताल प्रबंधन को मरीजों और तीमारदारों की सहूलियत का ख्याल रखने और बिजली जाने पर तुरंत प्रभाव से जैनरेटर ऑन करने के निर्देश दिए। उनकी तलखी के बाद जैनरेटर ऑन हुआ तो अस्पताल में बिजली सुचारू हो पाई। यह सारा वाक्या सोशल मीडिया पर भी वायरल हो गया।

सी.एम.ओ. डा. रमन शर्मा ने बताया कि विधायक महोदय आए थे और उन्होंने इस बारे में जिक्र किया था। जैनरेटर के कंट्रोल पैनल में दिक्कत होने के चलते जैनरेटर शुरू होने में देरी हुई थी। इसको ठीक करने के लिए निर्देश दे दिए गए हैं। अमूमन बिजली आपूर्ति बाधित होने पर जैनरेटर को तुरंत स्टार्ट कर दिया जाता है। सदर विधायक सतपाल रायजादा का कहना है कि अस्पताल में वह आज गए थे लेकिन लाइट चली जाने से काफी अंधेरा हो गया और गर्मी में लोगों का बुरा हाल हो रहा था। इसको लेकर अस्पताल प्रबंधन और चिकित्सकों से बात की गई है और उन्हें लाइट जाने पर तुरंत प्रभाव से जैनरेटर ऑन कर देने को कहा गया है।

.
.
.
.
.