Sports

कोलकाता : ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता जिम्नास्ट नादिया कोमनेची और खेल मंत्री कीरेन रीजीजू यहां के दो बच्चों की कलाबाजी (जिम्नास्टिक की तरह) का वीडियो देखकर उनके प्रशंसक बन गए। ये बच्चे स्कूल ड्रेस में सड़क पर कार्टवील्स और समरसाल्ट कर रहे हैं जो जिम्नास्टिक का अहम हिस्सा है। कोमनेची ने 29 अगस्त को बच्चों के कलाबाजी के वायरल वीडियो को ट्वीट करते हुए लिखा- यह शानदार है। उन्होंने एक अन्य ट्वीट में लिखा- स्कूल जाते समय ऐसा करना लाजवाब है। इन बच्चों की पहचान कक्षा सात की छात्रा जशिका खान (11) उर्फ लवली और 8वीं के छात्र मोहम्मद इजाजुद्दीन (12) उर्फ अली के रूप में हुई है। यह दोनों शहर के गार्डन रीच इलाके में रहते हैं। बच्चों का यह वीडियो उनके नृत्य शिक्षक शेखर राव ने बनाया है जिसे किसी और ने सोशल मीडिया पर साझा कर दिया।

खेल मंत्री रीजीजू ने कोमनेची के ट्वीट के जवाब में लिखा- मुझे खुशी है कि कोमनेची ने इसे ट्वीट किया। वह पहली जिम्नास्ट हैं जिन्होंने 1976 के मॉन्ट्रियल ओलंपिक में पर्फेक्ट 10.0 स्कोर किया था। उन्होंने इसके बाद भी छह और बार पर्फेक्ट 10 किया और तीन स्वर्ण पदक हासिल किए। यह बहुत ही खास है। मैंने इन बच्चों को मुझ से मिलवाने के लिए कहा है। वीडियो के सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद इन बच्चों के घर पर लोगों की भीड़ लगने लगी।

 The acrobatics of Indian children won the heart of Comanche

अली ने कहा- हम नहीं जानते कि हमने उस दिन कुछ भी असामान्य किया था। जशिका और मैं अक्सर स्कूल के रास्ते में सड़क पर या अकादमी में ऐसा करते हैं। हमें डांसिंग और कलाबाजी पसंद हैं। हां, मैं एक दिन जिम्नास्ट बनना पसंद करूंगा। लवली ने कहा- यह पहली बार नहीं था। हम अक्सर स्कूल जाते समय सड़क पर ऐसे स्टंट करते हैं। लेकिन इस बार हमारे करतब को सर (शेखर राव) ने रिकार्ड किया। इसे यूट््यूब पर अपलोड किया, फिर कोमनेची सहित कई लोगों ने इसे ट्वीट किया। मैं कोमनेची की तरह बनना चाहूंगी।

.
.
.
.
.