Sports

नई दिल्लीः भारतीय कप्तान विराट कोहली ने वेस्टइंडीज के खिलाफ पहले टेस्ट में भारत की सबसे बड़ी जीत हासिल करने के बाद शनिवार को कहा कि इंग्लैंड और भारत की परिस्थितियों की कोई तुलना नहीं की जा सकती।  भारत ने वेस्टइंडीका को पहले टेस्ट में तीन दिन के अंदर ही पारी और 272 रन से पराजित कर दिया जो उसके टेस्ट इतिहास की सबसे बड़ी जीत है। भारत को इस सीरीका से पहले इंग्लैंड में पांच टेस्टों में 1-4 से हार का सामना करना पड़ा था। यह मैच जीतने के बाद भारत और इंग्लैंड की परिस्थितियों के बारे में पूछे जाने पर विराट ने कहा- मुझे नहीं लगता कि इंग्लैंड और भारत की परिस्थितियों की तुलना की जानी चाहिए। वह एक बड़ी चुनौती थी और जहां तक मेरा मानना है कि जैसी हमारी क्षमता है, घरेलू परिस्थितियों में हम पूरी तरह दबदबा बनाकर रखेंगे। इस मैच में हर लिहाका से हमने एकतरफा प्रदर्शन किया। 

PunjabKesari

विराट ने इस मैच में खासतौर पर ओपनर पृथ्वी शॉ और ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा की सराहना करते हुए कहा- अपने पहले टेस्ट में ही पृथ्वी ने कमाल का प्रदर्शन किया। इस लड़के ने दिखाया कि उसमें एक अलग ही काबिलियत है। यही कारण है कि हम उसे टेस्ट टीम में लाए। एक कप्तान के लिहाका से यह देखना बहुत रोमांचित है कि नया खिलाड़ी अपने पहले ही मैच में कितना बेहतर प्रदर्शन करता है। पृथ्वी को जो मौका मिला उसे उसने अच्छे तरीके से भुना लिया है।

PunjabKesari

वेस्टइंडीका के प्रदर्शन के लिए भारतीय कप्तान ने कहा- मेहमान टीम के प्रदर्शन के बारे में मेरे लिए कुछ भी कहना उचित नहीं होगा। मुझे विश्वास है कि वे अपनी गलतियों को दूर करेंगे और अपने प्रदर्शन में सुधार लाएंगे। विपक्षी टीम क्या करती है हम उसपर अपना ध्यान नहीं लगाना चाहते। मुझे इस बात की खुशी है कि हमारा प्रदर्शन हर लिहाका से शत प्रतिशत रहा। जडेजा की तारीफ करते हुए कप्तान ने कहा- उन्होंने हमारे लिए महत्वपूर्ण रन जुटाए। हम चाहते थे कि वह तीन अंकों के आंकड़े पर पहुंचे। मेरा मानना है कि वह हमारे लिए मैच को बदल सकते हैं और बल्ले तथा गेंद से मैच विजयी योगदान दे सकते हैं। वह मैदान में बिजली की फुर्ती से प्रदर्शन करते हैं जिससे हमारे क्षेत्ररक्षण में एक अलग धार आती है।

PunjabKesari

विराट ने साथ ही तेका गेंदबाकाों उमेश यादव और मोहम्मद शमी को भी सराहा। उन्होंने कहा- पहली पारी में दोनों ने नयी गेंद से विकेट लेकर विपक्षी टीम को दबाव में ला दिया। शमी ने ऐसी पिच पर विकेट निकाले जिसपर तेज गेंदबाजों के लिए ज्यादा कुछ नहीं था। मैं यहां की गर्मी को देखते हुए चार गेंदबाकाों के साथ नहीं खेलना चाहता। उन्होंने कहा कि इन परिस्थितियों में स्पिनर काफी कारगर साबित होते हैं।कुलदीप ने दूसरी पारी में गजब का प्रदर्शन किया जबकि अश्विन पहली पारी में बेहतरीन थे।

जडेजा के प्रदर्शन में निरंतरता थी। हमें ओवर रेट का भी ध्यान रखना था क्योंकि नए नियम के तहत मैदान में बार बार आप पानी नहीं पी सकते। 40-45 मिनट तक पानी पिए पीना खिलाड़यिों के लिये खेलना काफी मुश्किल है। भारत में स्पिनरों को काफी गेंदबाजी करनी होती है। मुझे उम्मीद है कि इन नियमों के बारे में सोचना होगा और परिस्थितियों के हिसाब से इसे तय करना होगा।

 

 

.
.
.
.
.