Sports

गोंडा : रेलवे के प्रीतम ने राष्ट्रीय कुश्ती चैम्पियनशिप के फाइनल में प्रतिभाशाली जूनियर पहलवान यश को हराकर 74 किग्रा वर्ग में चैम्पियन बनकर सभी को चौंकाया तो नरसिंह पंचम यादव ने भी कांस्य पदक जीतकर मजबूत वापसी का संकेत दिया। नरसिंह ने चार साल के डोपिंग प्रतिबंध को पूरा करने के बाद हाल ही में प्रतिस्पर्धी कुश्ती में वापसी की है। अमित धनखड़ और यश को इस भार वर्ग में खिताब का प्रबल दावेदार माना जा रहा था।

25 साल के प्रीतम ने हालांकि शुरुआती चरण के दो मुकाबलों में अपने प्रतिद्वंद्वी को पटखनी देकर जीत दर्ज की और दो मुकाबलों को उन्होंने तकनीकी श्रेष्ठता से अपने नाम किया। इस पहलवान ने हाल ही में जूनियर विश्व चैम्पियनशिप में कांस्य जीतकर सीनियर कुश्ती में आने वाले यश के खिलाफ फाइनल में भी एक अंक नहीं गंवाया और 11-0 की शानदार जीत दर्ज की। प्रीतम आक्रामकता और नियंत्रण के शानदार मिश्रण से अपने मुकाबलों में हावी रहे। उन्होंने कहा- मेरे लिए यह अच्छा था कि मैं जीत का प्रबल दावेदार नहीं था, नहीं तो मैं भी हार सकता था।

Pritam, wrestler, Surprised, champion, Difficult Section, Wrestling news in hindi, sports news, नरसिंह पंचम यादव, Narsingh Pancham Yadav

सीनियर स्तर के अपने चौथे राष्ट्रीय प्रतियोगिता में पहली बार स्वर्ण जीतने वाले प्रीतम ने कहा कि मैंने इस साल कड़ी मेहनत की थी और मुझे खिताब जीतने का पूरा भरोसा था। अमित धनखड़ बहुत मजबूत और अनुभवी पहलवान हैं लेकिन मैं अतीत में उससे भिड़ चुका हूं और उसे हराने में सफल रहा हूं। इसलिए मुझे पता था कि मुझे क्या करना है।

यश ने  सेमीफाइनल में 11-7 से जीत के साथ नरसिंह की खिताब की उम्मीदों को समाप्त कर दिया। नरसिंह ने इससे पहले अंतिम आठ के उतार-चढ़ाव से भरे करीबी मुकाबले धनकड़ को 7-6 से हराया। इस मुकाबले में नरसिंह ने शानदार रक्षात्मक खेल दिखाने की अपनी रणनीति से धनकड़ को चकमा देने में भी सफल रहे।

Pritam, wrestler, Surprised, champion, Difficult Section, Wrestling news in hindi, sports news, नरसिंह पंचम यादव, Narsingh Pancham Yadav

दिग्गज पहलवान बजरंग पूनिया और रवि दहिया की गैरमौजूदगी में 65 किग्रा और 57 किग्रा वर्ग में ज्यादा प्रतिस्पर्धा या प्रतिभा देखने को नहीं मिली। रोहित ने उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन करते हुए ने श्रवण को 4-0 से हराकर 65 किग्रा का खिताब अपने नाम किया। अमन ने 57 किग्रा के फाइनल में तकनीकी श्रेष्ठता के आधार पर अभिषेक को पछाड़ा।

कड़े मुकाबले वाले 79 किग्रा का फाइनल जूनियर विश्व चैंपियनशिप के कांस्य विजेता गौरव बालियान ने जीता। उन्होंने जितेंद्र किन्हा को 5-3 से हराया। विक्की 92 किग्रा में मोनू दहिया पर जीत के साथ चैंपियन बने, जबकि शिवराज ने 125 किग्रा वर्ग में मोहित के खिलाफ 3-1 की जीत के साथ स्वर्ण पदक अपने नाम किया। सेना ने फ्रीस्टाइल टीम का खिताब अपने नाम किया, जबकि रेलवे उपविजेता और हरियाणा तीसरे स्थान पर रहा।

.
.
.
.
.