Sports

स्पोर्ट्स डेस्क: 61 टेस्ट मैच, 4 हजार 772 रन, 50 का बेहतरीन बैटिंग एवरेज, 15 शानदार शतक और सर्वाधिक 206 रन। टेस्ट क्रिकेट में अपनी लंबी और टिकाऊ बल्लेबाजी से ये उम्दा आंकड़े जोड़े हैं टेस्ट में टीम इंडिया की 'मजबूत दीवार' चेतेश्वर पुजारा ने। 4 अक्टूबर से वेस्टइंडीज के खिलाफ शुरू हो रही टेस्ट सीरीज के लिए कोहली ब्रिगेड तैयार है, लेकिन टेस्ट टीम के चयन को लेकर क्रिकेट फैन्स सोशल मीडिया पर सिलेक्टर्स से सवाल-दर-सवाल कर रहे हैं। सवाल रोहित शर्मा के बाद अब टेस्ट टीम के उप-कप्तान को लेकर है और ये सवाल कहीं न कहीं जायज भी है।
 PunjabKesari

विराट कोहली की कप्तानी में उतरने वाली टीम इंडिया के उप-कप्तान के तौर पर अजिंक्य रहाणे पर फिर विश्वास जताया गया है, लेकिन चयनकर्ताओं का ये फैसला क्रिकेट फैन्स को नागवार गुजरा है। क्रिकेट फैन्स उप-कप्तान के तौर पर टेस्ट एक्सपर्ट पुजारा को देखना चाहते हैं और कोहली की गैर-मौजूदगी में कप्तान के तौर पर भी। क्रिकेट फैन्स के इस सवाल पर अगर गौर करें तो इसमें कोई दो राय नहीं कि पिछली कई टेस्ट सीरीज में मिडल ऑर्डर में उप-कप्तान के तौर पर रहाणे को ज्यादा मौके दिए गए और इसमें भी कोई दो राय नहीं कि पिछली कुछ सीरीज में अजिंक्य रहाणे का प्रदर्शन उस स्तर का नहीं रहा, जितनी उम्मीद कप्तान कोहली, कोच, टीम सिलेक्टर्स और क्रिकेट फैन्स ने की। 

PunjabKesari

बात इसी साल की करें तो रहाणे ने इस साल अब तक 7 टेस्ट मैच खेले और उनमें 24.92 की साधारण औसत के साथ महज 324 रन ही बना पाए। इस साल रहाणे ने अफगानिस्तान के खिलाफ 1 टेस्ट, दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 1 टेस्ट और इंग्लैंड के खिलाफ 5 टेस्ट मैच खेले, लेकिन इन मैचों में या यूं कहें कि उन बेहतरीन मौकों पर रहाणे केवल मात्र 2 अर्धशतक ही बना पाए। नतीजा रहाणे के आउट ऑफ फॉर्म चलने का ख़ामियाजा टीम को भी भुगतना पड़ा। आंकड़ों पर गौर करें तो अजिंक्य रहाणे के बल्ले से आखिरी शतक साल 2017 में श्रीलंका के खिलाफ निकला था। 

PunjabKesari

वहीं, चेतेश्वर पुजारा की बात करें तो आईसीसी की ताजा रैंकिंग में टेस्ट में बतौर बेस्ट बैट्समैन कोहली के बाद पुजारा 772 रेटिंग के साथ सूची में छठे नंबर पर हैं। पुजारा न केवल इंग्लैंड दौरे पर, बल्कि दूसरी पिचों पर खरे उतरे और कई रिकॉर्ड दर्ज कर टीम को जीत की ओर भी ले गए। आंकड़ों पर एक नजर डालें तो पुजारा की मौजूदगी में टीम इंडिया ने करीब 57 प्रतिशत मैचों में जीत भी दर्ज की है। इंग्लैंड टेस्ट सीरीज के दौरान भी पहले मैच में पुजारा को प्लेइंग इलेवन में जगह नहीं देने पर न केवल टीम को इसका खामियाजा भुगतना पड़ा था, बल्कि टीम सिलेक्टर्स को भी सोशल मीडिया पर फैन्स की खरी-खरी सुननी पड़ी थी।

.
.
.
.
.