Sports

जकार्ता : 18वें एशियाई खेलों में भाला फेंक नीरज चोपड़ा ने ‘गोल्ड’ मेडल जीतकर इतिहास रच दिया है। नीरज एशियाई खेलों में इस स्पर्धा में भारत के लिए गोल्ड जीतने वाले पहले खिलाड़ी बन गए हैं। उन्होंने फाइनल में चीन के लियू और पाकिस्तान के नदीम अरशद को पछाड़कर यह स्थान हासिल किया। 20 वर्षीय नीरज कॉमनवैल्थ गेम्स, एशियन चैम्पियनशिप और वल्र्ड जूनियर चैम्पियनशिप में गोल्ड जीत चुके हैं। अब उन्होंने एशियाई खेलों में रिकॉर्ड 88.6 मीटर दूरी तक भाला फेंककर मैंस इवैंट में गोल्ड जीता। इवैंट में एक और भारतीय शिपवाल सिंह ने भी हिस्सा लिया था लेकिन वह आठवें स्थान पर रहे।

PunjabKesari

भारत ने एशियाई खेलों में भाला फेंक में कभी स्वर्ण पदक नहीं जीता था, लेकिन अब नीरज ने इतिहास रच दिया है। भारत की तरफ से भाला फेंक में आखिरी पदक 1982 में नई दिल्ली में गुरतेज सिंह ने कांस्य पदक के रूप में जीता था।
 

PunjabKesari

हरियाणा के 20 साल के नीरज से स्वर्ण की उमीद की जा रही थी और उन्होंने शानदार अंदाज में इस उमीद को पूरा कर दिखाया। नीरज ने इसके साथ ही देश के महान एथलीट उडऩ सिख मिल्खा सिंह के एक ही वर्ष में राष्ट्रमंडल और एशियाई खेलों में स्वर्ण जीतने के 60 साल पुराने रिकार्ड की बराबरी भी कर ली। नीरज ने गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों में 86.47 मीटर की थ्रो के साथ स्वर्ण पदक जीता था।  नीरज ने 2016 की जूनियर विश्व चैंपियनशिप में 86.48 मीटर की थ्रो के साथ स्वर्ण जीत कर इतिहास बनाया था। 2018 में नीरज ने दोहा डायमंड लीग में 87.43 मीटर की अपनी सर्वश्रेष्ठ थ्रो फेंकी थी और उन्होंने एशियाई खेलों में 88.06 मीटर के साथ इसमें सुधार कर लिया।

PunjabKesari

.
.
.
.
.