Sports

टोक्यो : टोक्यो ओलंपिक में पदक की दौड़ में शामिल भारतीय गोल्फर अदिति अशोक ने शुक्रवार को तीसरे दिन का खेल खत्म होने के बाद कहा कि कोरोना वायरस के चपेट में आने के बाद उनकी ताकत कम हुई है जिससे उनका खेल भी प्रभावित हुआ है। अदिति ने तीसरे दौर में पांच बर्डी और दो बोगी बनाई जिससे उनका कुल स्कोर 12 अंडर का हो गया और वह तालिका में दूसरे स्थान पर है। 

अमेरिका की नैली कोर्डा उनसे तीन स्ट्रोक्स आगे है जिन्होंने इस दौर में दो अंडर 69 स्कोर किया। अदिति के पास ओलंपिक गोल्फ में देश के लिए पहला पदक जीतने का मौका है। उन्होंने कहा कि उन्हें इस बात का अंदाजा है कि देश को उनसे पदक की उम्मीद है लेकिन वह इस दबाव को फिलहाल नहीं लेना चाहती है। उन्होंने बताया कि वह मई-जून में जब भारत आई थी तो कोविड-19 के चपेट में आ गई थी। उन्होंने कहा कि मैं वीजा संबंधी काम के लिए भारत आई थी लेकिन वहां कोविड-19 के चपेट में आ गई। इस कारण मैं दो सप्ताह से अधिक समय के लिए वही रही।

उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि कोविड-19 के कारण मेरी ताकत कम हुई है। लंबी दूरी के होल में मेरा शॉट काफी पीछे रह जा रहा है। पहले भी होल से दूर रहता था लेकिन इतना दूर कभी नहीं था। जो होल अधिक दूर है वहां खेल में निरंतरता बरकरार नहीं रख पा रही हूं। पहले दौर की तुलना में इस (तीसरे) दौर में मेरी ‘पुटिंग' (करीब से गेंद को होल में डालना) अच्छी नहीं थी। ओलंपिक कार्यक्रम में 2016 में गोल्फ की वापसी के बाद, किसी भी भारतीय (पुरुष या महिला) ने पदक नहीं जीता है और अदिति को इस खिताब का मतलब अच्छे से पता है। 

भारत की उम्मीदों के दबाव के बारे में पूछे जाने पर, उन्होंने कहा कि निश्चित रूप से (वह दबाव महसूस करती हैं) लेकिन मैं इसके बारे में इतना नहीं सोच रही हूं। मुझे लगता है कि मैं इस सप्ताह कैसा भी करूं, लोगों ने गोल्फ के बारे में सुना है। इससे खेल लोकप्रिय हुआ है। टोक्यो में कल और परसों खराब मौसम की आशंका है ऐसे में चौथे दिन के खेल को जल्दी शुरु किया जाएगा। अगर रविवार तक चौथे दौर (72 होल) का खेल पूरा नहीं हुआ तो तीसरे दौर (54 होल) के नतीजे पर विजेता का चयन होगा। 

.
.
.
.
.