Sports

मुंबईः मुंबई सिटी एफसी पिछले मैच में एफसी गोवा से मिली करारी हार को भुला कर नए कोच जॉर्ज कोस्टा के मागदर्शन में शनिवार को इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के सीजन पांच में दिल्ली डायनामोज के खिलाफ नई शुरुआत करने के इरादे से उतरेगी।  मुंबई को गोवा ने 5-0 से करारी मात दी थी। कोस्टा ने मैच की पूर्व संध्या पर कहा, ''पहले हाफ में गोवा काफी अच्छा खेल रही थी। खिलाडिय़ों ने वह सब किया जो मैंने कहा था। दूसरे हाफ में पहले 20 मिनट काफी बुरे थे। इसके बाद हमने मैच गंवा दिया। इसलिए मैं दुखी हूं। इसलिए नहीं कि हम 5-0 से हारे क्योंकि आखिरी 15 मिनट हमने देखे कि टीम मैच फिनिश करने का इंतजार नहीं कर सकती। वह भाग नहीं रहे थे, न ही मैच पर ध्यान नहीं दे रहे थे।''

पुर्तगाल के कोच चाहते हैं कि उनकी टीम शुरू से लेकर अंत तक लड़ाई करें, स्कोरलाइन चाहे जो भी रहे। उन्होंने कहा, ''हमें सबसे पहले अपने काम पर ध्यान देना है। हमें अपने काम की इज्जत करनी है। तीसरा हमें अपने प्रशंसकों की इज्जत करनी है और हमें हार नहीं माननी हैं। अंत के 15-20 मिनट में जो हुआ उस पर मैं इसलिए हताश हूं क्योंकि उन्होंने हार मान ली। एक पेशेवर खिलाड़ी की तरह आप हार नहीं मान सकते।'' टीम में बदलाव के लिए पुर्तगाल के कोच कुछ बदलाव कर सकते हैं। कप्तान लूसियान गोइयन को टीम की जिम्मेदारी लेनी होगी और डिफेंस में कमजोरी को दूर करना होगा और साथ ही ड्रेसिंग रूम की भावना को आगे ले जाना होगा। उन्हें अपने गोलकीपर अमरिंदर सिंह के बिना मैदान पर उतरना होगा जो गोवा के खिलाफ चोटिल हो गए थे। 

वहीं दिल्ली डायनामोज के पास ध्यान देने के लिए काफी गलतियां हैं। वह इस सीजन में अपनी पहली जीत की दरकार में होगी। दिल्ली ने अभी तक तीन मैच ड्रॉ खेले हैं और एक में उसे हार मिली है। वह मुंबई सिटी को हल्के में नहीं ले सकती। दिल्ली के सहायक कोच मृदुल बनर्जी ने कहा, ''उस हार की जिम्मेदार मुंबई सिटी नहीं है, इसकी जिम्मेदारी पूरी तरह से गोवा की है। सभी गोल अच्छे थे। मुंबई सिटी को मौके मिले थे लेकिन वह उन्हें भुना नहीं पाई। कल एक नया मैच है। एक नया दिन। मेरा मानना है कि पिछले मैच का परिणाम मुंबई सिटी के प्रदर्शन पर असर नहीं डालेगा।'' दिल्ली अभी तक अपनी लय हासिल नहीं कर पाई है। उन्होंने मैच में कई मौकों पर मौके बनाए थे, लेकिन फिनिशिंग की कमी उन्हें वापस परेशान कर सकती है। चार मैचों में तीन गोल इस बात को नहीं बताते हैं कि उनके पास कितने मौके आए थे। बनर्जी ने कहा, ''हम काफी अच्छा खेल रहे हैं, लेकिन हमने गोल करने के कई मौके बनाए हैं, लेकिन हम उन्हें भुना नहीं सके। हम इस पर काम कर रहे हैं। एक-दो मैचों में हम इसे पूरा कर लेंगे।'' 

.
.
.
.
.