Sports

ईडन पार्क ( न्यूजीलैंड ): ऑस्ट्रेलियाई सलामी बल्लेबाज डार्शी शॉर्ट ने आईपीएल-2018 से पहले एक बड़ा रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया है। 27 साल के डार्शी ने न्यूजीलैंड के खिलाफ ईडन पार्क में त्रिकोणीय टी-20 के फाइनल 28 गेंदों में अर्धशतक पूरा किया। इसके साथ ही उनके नाम अनोखा रिकॉर्ड जुड़ गया। डार्शी को राजस्थान रॉयल्स ने 4 करोड़ रुपये में खरीदा है। आईपीएल के मुकाबले 7 अप्रैल से शुरू होंगे। ऑस्ट्रेलिया ने यह फाइनल 19 रनोॆ (डीएल मेथड) से जीत लिया।

दरअसल, डार्शी किसी टी-20 इंटरनेशनल के फाइनल में सबसे कम गेंदों में फिफ्टी जमाने वाले खिलाड़ी बन गए। इसके पहले यह रिकॉर्ड श्रीलंकाई दिग्गज कुमार संगकारा और इंग्लिश बल्लेबाज जो रूट के नाम था। दोनों ने 33-33 गेंदों में क्रमशः 2014 और 2016 के टी-20 वर्ल्ड कप के फाइनल में फिफ्टी लगाई थी। इससे पहले ईडन पार्क पर डार्शी ने 76 रन बनाए थे, जब न्यूजीलैंड के खिलाफ 244 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी ऑस्ट्रेलियाई टीम ने 7 गेंदें शेष रहते यह मुकाबला 5 विकेट से जीत लिया था। जिससे टी-20 इंटरनेशनल में सफलतापूर्वक लक्ष्य का पीछा करने का वर्ल्ड रिकॉर्ड बना।

ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों ने अपनी छोटी बांउड्री के लिए चर्चा में रहे ईडन पार्क में न्यूजीलैंड ने 9 विकेट पर 150 रन बनाने दिए।ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों ने इसी मैदान पर  243 रन लुटाए थे, लेकिन उन्होंने आज इसका बदला चुकता करते हुए कीवी बल्लेबाजों पर अंकुश लगाए रखा। बाएं हाथ के स्पिनर एश्टन एगर ने 27 रन देकर 3 विकेट लिए, जो उनके करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। केन रिचर्डसन और एंड्रयू टाई ने दो -दो विकेट हासिल किए।
 

न्यूजीलैंड के बल्लेबाजों ने लचर प्रदर्शन किया। उसकी तरफ से रॉस टेलर ने 38 गेंदों पर सर्वाधिक नाबाद 43 रन बनाए। उनके अलावा कॉलिन मुनरो ने 29 और पिछले मैच में शतक जड़ने वाले मार्टिन गप्टिल ने 21 रन बनाए। इस मैदान की बाउंड्री भले ही छोटी हैं। लेकिन न्यूजीलैंड की तरफ से केवल पांच छक्के लगे। न्यूजीलैंड ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया था।

ऑस्ट्रेलिया की ओर से डेविड वॉर्नर (25) और डार्शी (50) ने लक्ष्य का पीछा करते हुए पहले विकेट के लिए 72 रन जोड़े। स्कोर जब 14.4 ओवर में 121/3 था, तभी बारिश की वजह से मैच रुका और इसके बाद ऑस्ट्रेलिया को डकवर्थ लुईस पद्धति के तहत 19 रन से विजेता घोषित कर दिया गया। एरॉन फिंच (18) और ग्लेन मैक्सवेल (20) नाबाद रहे।

 

 

.
.
.
.
.