Sports

नई दिल्ली : जिनसन जानसन के लिए 800 मीटर की दौड़ नहीं जीत पाना निराशाजनक रहा लेकिन एशियाई खेलों की 1500 मीटर स्पर्धा के चैंपियन जिनसन जानसन अपनी पसंदीदा स्पर्धा 800 मीटर में हमवतन मनजीत सिंह से पिछडऩे से हैरान नहीं हैं। जानसन ने कहा- हां, 800 मीटर मेरी पसंदीदा स्पर्धा है और मैं इसमें स्वर्ण पदक जीतना पसंद करता। इसलिए इस तरह से मैं निराश हूं लेकिन मुझे खुशी है कि किसी और देश की जगह दो भारतीयों ने स्वर्ण और रजत पदक जीता।

PunjabKesari

उन्होंने कहा- मनजीत के स्वर्ण पदक जीतने से मैं काफी हैरान नहीं हूं क्योंकि उसे और मेरे समय में काफी अंतर नहीं है। पिछले कुछ वर्षों से राष्ट्रीय चैंपियनशिप में वह मेरा मुख्य प्रतिस्पर्धी है। मुझे पता है कि अगर मैं जीत सकता हूं तो वह (मनजीत) भी जीत सकता है। अंतिम मोड़ पर मनजीत दो-तीन धावकों से पीछे चल रहे थे लेकिन इसके बाद उन्होंने जानसन और अन्य धावकों को पीछे छोड़ते हुए स्वर्ण पदक जीता। मनजीत ने अपना निजी सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए एक मिनट 46.15 सेकेंड का समय लिया जबकि जानसन ने एक मिनट 46.35 सेकेंड में दौड़ पूरी की।

PunjabKesari
मनजीत

जानसन ने कहा- अंतिम चरण में मैं थोड़ी जकडऩ महसूस कर रहा था और अंतिम प्रयास के लिए ऊर्जा नहीं बचा पाया जो मनजीत करने में सफल रहा। लेकिन कोई फर्क नहीं पड़ता, मैं 800 मीटर में रजत पदक जीतकर खुश हूं। यह पूछने पर कि 1500 मीटर दौड़ के दौरान क्या उनके दिमाग में 800 मीटर की हार चल रही थी, जानसन ने कहा, ‘‘नहीं, ऐसा नहीं है। इस मंच पर कोई भी किसी भी स्पर्धा को जीत सकता है। मैं सिर्फ मनजीत के बारे में नहीं सोच रहा था बल्कि सभी प्रतिस्र्पिधयों के बारे में सोच रहा था कि कोई मुझे पीछे नहीं छोड़ सके (1500 मीटर में)।’

.
.
.
.
.