Sports

नई दिल्ली : पिछले कई वर्षों में भारतीय फुटबॉल टीम की सबसे बड़ी हार से निराश कोच इगोर स्टिमक ने इशारा किया कि वह प्रवासी भारतीय नागरिकों (ओसीआई) को राष्ट्रीय टीम में जगह देने के पक्ष में हैं। यूएई ने हाल ही दुबई में खेले गए मैत्री मैच में अनुभवहीन भारतीय टीम को 6-0 की करारी शिकस्त दी थी।

स्टिमक ने एआईएफएफ (अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ) से कहा- जब हम अफगानिस्तान या बांग्लादेश जैसे देशों के खिलाफ मैच होता है तो मुझे लगता है कि हमारे पास कई विकल्प मौजूद है। फीफा विश्व कप 1998 के सेमीफाइनल में पहुंचने वाली कोएशियाई टीम के सदस्य स्टिमक ने कहा- आपको याद दिला दूं कि अफगानिस्तान ने विदेशी नागरिक खिलाडिय़ों को राष्ट्रीय टीम के लिए खेलने की अनुमति दी है। उनके पास अब यूरोपीय लीग से आने वाले 13 खिलाड़ी हैं।

उन्होंने कहा- उनके खिलाड़ी जर्मनी, पोलैंड, फिनलैंड, नीदरलैंड और स्वीडन में प्रतिस्पर्धा कर रहे हैं। उनके दो खिलाड़ी ऑस्ट्रेलियाई क्लबों का प्रतिनिधित्व कर रहे है। एक खिलाड़ी अमेरिका की शीर्ष लीग में खेलता है। बांग्लादेश ने ‘3 + 1’ नीति अपनाई है और उनकी लीग बेहद प्रतिस्पर्धी भी है। 
 

.
.
.
.
.