Sports

स्पोर्ट्स डेस्क : पूर्व भारतीय ओपनर सुनील गावस्कर ने चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को सलाह दी है कि वह अगला आईपीएल खेलने से पहले उन्हें कुछ घरेलू मैच खेलने चाहिए ताकि उनकी टाइमिंग खराब ना हो। कल धोनी ने कल टाॅस के दौरान उन सभी अटकलों को खारिज कर दिया जिसमें कहा जा रहा था कि ये धोनी का आखिरी आईपीएल है। कमेंटेटर ने धोनी से पूछा था कि क्या ये आपना फाइनल मैच है? इस पर धोनी ने दो शब्दों में जवाब देते हुए कहा था, बिल्कुल नहीं। 

गावस्कर ने धोनी के बारे में बात करते हुए कहा, धोनी को प्रतिस्पर्धी क्रिकेट खेलना चाहिए क्योंकि सीएसके कप्तान एक ऐसी उम्र में हैं जहां परफार्मेंस स्लो हो जाती है। उन्होंने कहा कि उम्र के साथ, भले ही कोई बल्लेबाज मैच के लायक हो, लेकिन वह टाइमिंग गंवा देता है। गावस्कर ने कुमार संगकारा के विचारों से सहमति जताई, जिन्होंने 39 वर्षीय विकेटकीपर को आईपीएल के दो सत्रों के बीच प्रतिस्पर्धी क्रिकेट खेलने की सलाह दी है। 

पूर्व ओपनर ने कहा, अगर धोनी जिम जाते हैं तो फिट और मजबूत होंगे लेकिन यदि उसे उचित और नियमित मैच अभ्यास नहीं मिलता है तो वह टाइमिंग खो देगा। खैर, संगा ने पहले ही कहा कि, उसे प्रतिस्पर्धी क्रिकेट खेलने के लिए मिला है। नेट में होना ठीक है लेकिन जब तक वह प्रतिस्पर्धी क्रिकेट नहीं खेलता है, खासकर इसलिए क्योंकि वह एक ऐसी उम्र में है, जहां रिफ्लेक्सिस धीमा पड़ जाता है। जैसे-जैसे आप बूढ़े होते जाते हैं, क्या खोते चले जाते हैं। सब कुछ अच्छा लग सकता है। 

आप खुद को आईने में देखते हैं, कुछ भी नहीं बदला है। आप वास्तव में अपना वजन कम कर सकते हैं, आप मजबूत और फिटनेस पाने के लिए जिम जा सकते हैं। लेकिन आपका समय बदल जाता है, मतलब टाइमिंग, आपको लगता है कि आपका पैर गेंद की तरफ जा रहा है, लेकिन यह बेहद कम होता है कि एक अच्छी ड्राइव मिल जाए या गेंद हवा में जा रही हो। 

गावस्कर ने अंत में कहा, ये छोटी चीजें हैं जिन्हें उसे देखना है। इसका मतलब है कि उसे घरेलू क्रिकेट खेलना है। कोई घरेलू क्रिकेट नहीं होता तो उस मामले में बहुत कुछ नहीं किया जा सकता। लेकिन जितना अधिक वह प्रतिस्पर्धी क्रिकेट खेलता है, दबाव लाएगा, वास्तव में नेट्स में, कोई दबाव नहीं होता। अगर वह ऐसा करता है, तो मुझे लगता है कि वह अगले साल भी 400 रन बनाने के लिए अच्छा होगा। 

.
.
.
.
.