Sports

नई दिल्लीः  क्रिकेट प्रशासकों की समिति की सदस्य डायना एडुल्जी ने सोमवार को कहा कि सीनियर खिलाड़ी मिताली राज को महिला टी20 विश्व कप सेमीफाइनल से बाहर रखने के विवादित फैसले पर सवाल नहीं उठाए जा सकते और ग्रुप चरण में अजेय रहने वाली भारतीय टीम के लिये वह खराब दिन था । इंग्लैंड के खिलाफ मैच में मिताली को बाहर रखने पर विवाद पैदा हो गया । भारत को उस मैच में आठ विकेट से पराजय झेलनी पड़ी ।      

भारत जीत जाता तो कोई सवाल नहीं उठाता

भारत की पूर्व कप्तान एडुल्जी ने कहा ,‘‘ मुझे लगता है कि तिल का ताड़ बनाया जा रहा है । टीम प्रबंधन (कप्तान हरमनप्रीत कौर, कोच रमेश पोवार, उपकप्तान स्मृति मंधाना और चयनकर्ता सुधा शाह) ने विजयी संयोजन को नहीं छेडऩे का फैसला लिया जो गलत साबित हुआ । भारत जीत जाता तो इस पर कोई सवाल नहीं उठता ।’’ उन्होंने कहा ,‘‘ हम टीम एकादश पर सवाल नहीं उठा सकते । कृणाल पंड्या का उदाहरण देखों जिसकी पहले टी20 में काफी धुनाई हुई थी लेकिन उसने कल शानदार वापसी की ।खेल में यह सब होता है ।’’
mithali pic     

आस्ट्रेलिया के खिलाफ आखिरी पूल मैच से बाहर रही मिताली घुटने की चोट से उबरकर इंग्लैंड के खिलाफ खेलने के लिए उपलब्ध थी । उसने टूर्नामेंट में लीग चरण में आयरलैंड और पाकिस्तान के खिलाफ 51 और 56 रन बनाये थे। हरमनप्रीत को आड़े हाथों लेते हुए मिताली की मैनेजर अनीशा गुप्ता ने कहा था कि मिताली को राजनीति और पक्षपातवाद का शिकार बनाया गया है । 

एडुल्जी ने कहा कि इस तरह के बयान की जरूरत नहीं थी । उन्होंने कहा ,‘‘ भारत के लिये वह खराब दिन था । बल्लेबाज नहीं चल सके और गेंदबाजी के समय ओस ने मुश्किलें पैदा की । सेमीफाइनल में इस तरह का प्रदर्शन अपेक्षित नहीं था ।’’ उन्होंने यह भी कहा कि हरमनप्रीत और मिताली के साथ सीओए की कोई बैठक अभी नहीं होने जा रही है ।       

.
.
.
.
.