Sports

बर्मिंघम : भारतीय महिला हॉकी टीम की मिडफील्डर नवजोत कौर की कोविड-19 परीक्षण की रिपोर्ट स्पष्ट नहीं होने के कारण उन्हें पृथकवास में रखा गया है, जिससे राष्ट्रमंडल खेलों में महिला टीम में दहशत का माहौल बना हुआ है। भारत ने घाना पर 5-0 की बड़ी जीत से अपने अभियान की शुरुआत की है।

टीम सूत्रों का कहना है कि नवजोत को अलग-थलग रखा गया है। उनका सीटी मानक संक्रामक नहीं है। उनका पहला परीक्षण पॉजिटिव आया था लेकिन दूसरे परीक्षण में उनके सीटी मानक में सुधार हुआ है और वह दूसरों को संक्रमित नहीं कर सकती हैं। वह अभी अलग-थलग है और पूरी संभावना है कि उन्हें वापस भारत भेज दिया जाएगा।

कुरुक्षेत्र की रहने वाली 27 वर्षीय नवजोत जकार्ता में खेले गए एशियाई खेलों में रजत पदक जीतने वाली टीम और 2014 में इंचिओन खेलों की कांस्य पदक विजेता टीम की सदस्य थी। भारत का 300 से अधिक सदस्यों का दल अभी तक खेलों के दौरान कोविड से मुक्त था। महिला क्रिकेट टीम कि दो सदस्य पूजा वस्त्राकर और मेघना का भारत में परीक्षण पॉजिटिव आया था लेकिन वह उससे उबर गई थी।

मेघना टीम से जुड़ चुकी है और पूजा के बारबाडोस के खिलाफ तीन अगस्त को होने वाले तीसरे मैच से पहले टीम से जुडऩे की संभावना है। इस सप्ताह के शुरू में राष्ट्रमंडल खेलों के आयोजकों ने कहा था कि खेल गांव में प्रत्येक दिन लगभग एक दर्जन मामले सामने आ रहे हैं।

.
.
.
.
.