Sports

नई दिल्ली : भारत की शीर्ष बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल ने कहा कि अगले साल ओलंपिक में बैडमिंटन प्रतियोगिता पिछले तीन आयोजनों की तुलना में कठिन होगी और वह तोक्यो 2020 के लिए अपनी फिटनेस और खेल में सुधार करने पर काम कर रही है। साइना 2015 में विश्व रैंकिंग में शीर्ष पर थी लेकिन 2016 में घुटने की सर्जरी के बाद से वह शीर्ष पर पहुंचने के लिए कड़ी मेहनत कर रही है।

साइना ने कहा,‘हां, यह (2020 ओलंपिक) पिछले तीन ओलंपिक की तुलना में काफी मुश्किल होगा। चीन के खिलाड़ी बहुत अच्छा प्रदर्शन कर रहे है। उनके अलावा कई दूसरी महिला खिलाड़ी भी शानदार लय में है। यह काफी मुश्किल होने वाला है।’ साइना ने गुड़गांव में प्रामेरिका स्पिरिट ऑफ कम्युनिटी अवाड्र्स कार्यक्रम में कहा, ‘मेरा ध्यान अभी ओलंपिक या फिर उसके लिए क्वालीफाई करने पर नहीं है। मेरा ध्यान टूर्नामेंटों में अच्छा करने, खेल में सुधार करने और खुद को चोटों से दूर रखने पर है।’

भारत को अगर ओलंपिक के महिला एकल में दो खिलाड़ियों को भेजना है तो दोनों को रैंकिंग में शीर्ष 16 में रहना होगा। यह रैंकिंग 30 अप्रैल 2020 को क्वालीफिकेशन अवधी समाप्त होने के बाद जारी होगी। तोक्यो 2020 साइना का चौथा ओलंपिक खेल होगा वह इससे पहले 2008, 2012, 2016 में इन खेले में भाग ले चुकी है। लंदन ओलंपिक 2012 में उन्होंने कांस्य पदक जीता था।

.
.
.
.
.