Sports

मुंबई : युवा मिडफील्डर मनीषा कल्याण का मानना है कि आगामी एएफसी (एशियाई फुटबॉल परिसंघ) महिला एशियाई कप में अच्छा प्रदर्शन भारतीय फुटबॉल का चेहरा बदल सकता है। अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (एआईएफएफ) की ओर से जारी एक बयान में अंडर-19 टीम से राष्ट्रीय टीम में जगह बनाने वाली मनीषा ने कहा- हर युवा खिलाड़ी को सीनियर फुटबॉल के लिए खुद को ढालना में समय लगता है। मुझे भी अंडर-19 टीम में सीनियर टीम में आने के बाद यहां की जरूरतों के मुताबिक ढलने में दो साल लग गए।

पिछले साल नवंबर में ब्राजील के दौरे पर इस टीम के खिलाफ गोल कर सुर्खियां बटोर चुकीं मनीषा अपनी पिछली उपलब्धियों को पीछे छोड़कर आगे के मैचों पर ध्यान दे रही है। उन्होंने कहा- यह सब अतीत का हिस्सा है। आगामी मैचों के लिए हम नहीं जानते कि कौन शुरुआती एकादश बनाएगा, या कौन बेंच से आएगा। जो बात हम जानते हैं वह यह है कि कोच उन खिलाडिय़ों को चुनते है जिनका वर्तमान लय अच्छी रहती है। इसमें कुछ महीने पहले का प्रदर्शन काम नहीं करता है।

विश्व की सबसे मजबूत टीमों में से एक के खिलाफ गोल करने वाली मनीषा ने कहा कि ब्राजील के खिलाफ वह गोल व्यक्तिगत रूप से एक शानदार क्षण था। जब भी मुझे प्रेरणा की जरूरत होगी मैं समय-समय पर पीछे मुड़कर उसे देखूंगी और उससे प्रेरणा लेने की कोशिश करूंगी। लेकिन एशियाई कप बहुत बड़ा मंच है। यहां अच्छा प्रदर्शन भारतीय फुटबॉल को बदल सकता है। ग्रुप ए में शामिल भारत इस टूर्नामेंट में गुरुवार को यहां ईरान के खिलाफ अपने अभियान की शुरुआत करेगा। ईरान के अलावा, भारत 12 टीम वाली इस प्रतियोगिता में चीनी ताइपे (23 जनवरी) और चीन (26 जनवरी) से भिड़ेगा।

.
.
.
.
.