Sports

नई दिल्लीः पूर्व भारतीय कोच विमल कुमार का मानना है कि पीवी सिंधू को जवाबी हमले से परेशानी में डाला जा सकता है और यही वजह है कि वे हाल के राष्ट्रमंडल खलों के फाइनल सहित खिताबी मुकाबलों में हार जाती है।      

पहले भी कई बार हार चुकी हैं फाइनल में
ओलंपिक और विश्व चैंपियनशिप की रजत पदक विजेता सिंधू को हाल में गोल्ड कोस्ट में हमवतन साइना नेहवाल से हार के कारण रजत पदक से संतोष करना पड़ा था।  इस 22 वर्षीय खिलाड़ी की फाइनल में यह एक और हार थी। इससे पहले वह रियो ओलंपिक , ग्लास्गो विश्व चैंपियनशिप, दुबई सुपर सीरीज, इंडिया ओपन और आल इंग्लैंड चैंपियनशिप के फाइनल में भी हार गई थी।            

उन्होंने कहा, ‘‘सिंधू जब अन्य लड़कियों के खिलाफ खेलती है तो वह फाइनल में थोड़ा कमजोर नजर आती है। वह उस तरह की आक्रामकता नहीं दिखा पाती जैसा कि वह अन्य खिलाडिय़ों के खिलाफ दिखाती है। मैंने नोटिस किया जब रैलियां लंबी चलती हैं और जब जवाबी हमले की बात आती है तो सिंधू थोड़ा कमजोर पड़ जाती है और साइना ने इसका फायदा उठाया। उसने आक्रामक रवैया बनाये रखा लेकिन अगर यह मैच तीसरे गेम तक खिंचता तो फिर क्या होता यह नहीं जा सकता। ’’      
 

.
.
.
.
.