Sports

अबु धाबी : जापान एशिया कप फाइनल में जीत का प्रबल दावेदार है लेकिन पहली बार फाइनल में खेल रहे कतर के खिलाडिय़ों को टूर्नामेंट में अब तक अपने शानदार प्रदर्शन की बदौलत शुक्रवार को यहां खिताब जीतने की उम्मीद है। मेजबान देश के साथ अपने देश के राजनीतिक तनाव के कारण कतर के खिलाडिय़ों पर अबु धाबी में सेमीफाइनल में संयुक्त अरब अमीरात पर 4-0 की जीत के दौरान प्लास्टिक की बोतलें और जूते तक फेंके गए। इस सबसे जूझने के बाद 2022 विश्व कप के मेजबान कतर के खिलाडिय़ों का मानना है कि अब उनके पास जापान से डरने के लिए कुछ नहीं है।

रिकार्ड चार एशियाई खिताब जीतने वाले जापान ने सेमीफाइनल में खिताब के प्रबल दावेदार ईरान को 3-0 से हराकर उलटफेर किया था। पिछले साल विश्व कप के बाद हाजिमे मारियासु के कोच बनने के बाद से जापान की टीम पिछले 11 मैचों में अजेय है। जापान को कभी एशिया कप के फाइनल में हार का सामना नहीं करना पड़ा है जबकि कतर के डिफेंस ने मौजूदा टूर्नामेंट में शानदार प्रदर्शन किया है और उसके खिलाफ रिकार्ड छह मैचों में कोई गोल नहीं हुआ है। कतर ने हालांकि अब तक जापान जैसी मजबूत टीम का सामना नहीं किया है। कतर की टीम ने सेमीफाइनल में स्थानीय दर्शकों की बेरूखी के बावजूद हौंसला नहीं गंवाया।

सेमीफाइनल और सऊदी अरब के खिलाफ ग्रुप मैच में 2-0 की जीत के दौरान टीम के राष्ट्रगान के समय दर्शकों ने टीम की हूटिंग की। कतर के खिलाड़ी जब यूएई पर जीत का जश्न मना रहे थे तब दर्शकों ने उन पर प्लास्टिक की बोतलों की बरसात कर दी। इससे पहले टीम के प्रत्येक गोल के दौरान भी ऐसा ही नजारा देखने को मिला और मिडफील्डर सालेम अल हाजरी को चोट भी लगी। यूएई के नाराज समर्थकों ने टीम पर जूते भी फेंके जिसे अरब संस्कृति में काफी अपमानजनक माना जाता है। 

.
.
.
.
.