Sports

नई दिल्लीः उड़ीसा के पूर्व हाॅकी प्लेयर दिलीप तिर्की का मानना है कि भारत के पास इस बार हाॅकी विश्व कप में 'गोल्ड' जीतने का सुनहरा माैका था। भारत के पूर्व कप्तान रहे टिर्की के अनुसार, हमें विश्व स्तर का ड्रैग फ्लिकर्स तैयार करने की जरूरत है तभी नजीते बदले जा सकते हैं।

उन्होने कहा, ' हमारे पास अभी हरमनप्रीत, रोहिदास और वरुण हैं। हमें उन पर ध्यान देने की जरूरत है। हमें महत्वपूर्ण मैचों में 60 से 70 प्रतिशत पेनाल्टी कॉर्नर को गोल में बदलना होगा।' भारत अपने पूल में शीर्ष पर रहा था लेकिन वह क्वार्टर फाइनल में नीदरलैंड से 1-2 से हार गया था। 

रुपिंदर पाल सिंह की अनुपस्थिति में भारत के पास हरमनप्रीत, अमित रोहिदास और वरुण कुमार के रूप में तीन ड्रैग फ्लिकर्स थे लेकिन उनकी पेनाल्टी कॉर्नर को गोल में बदलने की दर सिर्फ 30.7 प्रतिशत थी। 

.
.
.
.
.