Sports

साओ पाउलो : लियोनल मेस्सी ने यहां कोपा अमेरिका के तीसरे स्थान के मुकाबले में चिली पर 2-1 की जीत के दौरान कड़े फैसले में लाल कार्ड दिखाकर बाहर किए जाने के बाद टूर्नामेंट में ‘भ्रष्टाचार और रैफरी’ को लताड़ा है। मैच के दौरान पहले हाफ के 37वें मिनट में 5 बार के बेलोन डिओर विजेता मेस्सी और चिली के कप्तान गैरी मेडेल को गोललाइन के समीप उलझने के लिए लाल कार्ड दिखाकर बाहर कर दिया गया। इस घटना के टेलीविजन रीप्ले में हालांकि दिखा कि मेस्सी की अधिक गलती नहीं थी।

Messi refuses to attend medal ceremony after angry reaction to red card

मेस्सी ने कहा- भ्रष्टाचार और रैफरी लोगों को फुटबाल का लुत्फ उठाने से रोक रहे हैं और इसे कुछ हद तक बर्बाद कर रहे हैं। इस घटना के लिए संभवत: सिर्फ चिली के कप्तान को पीला कार्ड दिखाया जाना था लेकिन पैराग्वे के रैफरी मारियो डियाज डि वेवार ने दोनों कप्तान को लाल कार्ड दिखा दिया। मेस्सी ने कहा, ‘‘मेडेल हमेशा हद तक पहुंच जाता है लेकिन किसी को भी लाल कार्ड नहीं दिखाया जाना चाहिए था। वह (रैफरी) वीएआर की सहायता ले सकता था।

Messi refuses to attend medal ceremony after angry reaction to red card

ब्राजील के खिलाफ सेमीफाइनल में अर्जेन्टीना की 0-2 से हार के दौरान रैफरी से मेस्सी पहले ही नाराज थे और उन्होंने दावा किया था कि दक्षिण अमेरिका की फुटबाल संचालन संस्था कोनमेबोल मेजबान टीम का पक्ष ले रही है। अर्जेन्टीना की ओर से मैच में सर्जियो एगुएरो ने 12वें और पाउलो डाइबाला ने 22वें मिनट में गोल दागा जबकि चिली की ओर से एकमात्र गोल 59वें मिनट में पेनल्टी पर आरटुरो विडाल ने दागा।

.
.
.
.
.