Sports

स्पोर्ट्स डेस्क: BCCI के सीईओ राहुल जौहरी पर मी टू मुहिम के तहत लगे यौन उत्पीड़न के आरोप लगे थे, जांच चल रही है, लेकिन पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली ने भारतीय क्रिकेट प्रशासन के मौजूदा हालात पर नाराजगी जाहिर की है। उन्होंने BCCI के पदाधिकारियों को पत्र लिखा है और मामले में सुप्रीम कोर्ट की ओर से नियुक्त क्रिकेट प्रशासकों की समिति (CoA) के कामकाज पर चिंता जाहिर करते हुए सवाल उठाए हैं।

BCCI की छवि हमारे लिए महत्वपूर्ण- गांगुली

PunjabKesari

मौजूदा वक्त में बंगाल क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष गांगुली ने अपने पत्र में लिखा, “मैं आप सभीको ये ई-मेल बड़ी निराशा के साथ लिख रहा हूं, कि भारतीय क्रिकेट प्रशासन कहां जा रहा है। भारतीय क्रिकेट की छवि हमारे लिए काफी महत्वपूर्ण है”। उन्होंने लिखा, “पिछले कुछ एक साल में जिस तरह की चीजें हुई, उससे भारतीय क्रिकेट से लेकर वर्ल्ड क्रिकेट तक जितने प्रशंसकों का प्यार और विश्वास मिला, वो अब कम हो रहा है”

BCCI की छवि को हुआ नुकसान- सौरव गांगुली

PunjabKesari

गांगुली ने अपनी ई-मेल में किसी नाम का जिक्र नहीं लिया पर उन्होंने जौहरी उत्पीड़न मामले में आरोपों पर गंभीर चिंता जाहिर की है। उन्होंने आगे लिखा, “मुझे नहीं पता कि इन बातों में कितनी सच्चाई है, लेकिन उत्पीड़न संबंधी हाल ही की रिपोर्ट और जिस तरह से मामले को हैंडल किया गया, उससे BCCI की छवि को नुकसान हुआ है।

कोच के चयन से जुड़ा मेरा अनुभव निराशाजनक- गांगुली

PunjabKesari

गांगुली ने अपनी ई-मेल में ये भी लिखा, “क्रिकेट प्रशासकों की समिति (CoA) के सदस्यों की राय भी एक समान नहीं है बल्कि उनकी राय तो बंटी हुई है”। बीते समय क्रिकेट के नियमों में अचानक बदलाव और कोच के पर भी उन्होंने सवाल उठाए थे। उन्होंने लिखा, “क्रिकेट के नियमों को सीजन के बीच में भी बदल दिया गया। पहले ऐसा कभी नहीं सुना गया। कोच के चयन से जुड़ा मेरा अनुभव निराशाजनक था”।

.
.
.
.
.